Home खबरों की खबर अन्य खबरे अभी तक हम सबने अपने आपको और अपने परिवार क़ो ही खुश...

अभी तक हम सबने अपने आपको और अपने परिवार क़ो ही खुश करके दीपावली मनाने की परम्परा क़ा निर्वहन किया है, मगर गुरुदेव जी की विचारधारा के अनुरूप हमने जिस दिन दिवाली मना ली उसी दिन से हमारे जीवन में प्रतिदिन दीपावली मनने लग जाएगी

डेस्क न्यूज। गुरुदेव जी ने कहा है की आप ख़ुद मिठाई खाते हैं उसकी खुशी क़ा अंदाजा लगाइए और आप जब किसी गरीब बस्ती में मिठाई लेकर जाइए और वहाँ के बच्चों क़ो मिठाई खिलाकर देखिए कि आपको कितनी बड़ी खुशी प्राप्त होगी। आइए इस दिवाली क़ो हम लोग गुरुवर श्री शक्ति पुत्र महाराज जी की विचारधारा के अनुरूप मनाकर देखें। जीवन में अपने खुशियों क़ो महत्व ना देकर जिस दिन हमने किसी जरूरतमंद की खुशियों की पटवाह करने लग जाएँगे तो हमारा पूरा जीवन आनन्द से भर जाएगा। आज गुरुदेव जी ने स्वयँ की खुशियों का परित्याग कर दिया है और समाज के गरीब और असहाय परिवारों क़ा अनवरत कल्याण करने में तत्पर हैं।आप स्वयं देखिए और सोचिए कि जब हम किसी की मदद करते हैं तब तब हमें असीम आनन्द की प्राप्ति होती है। कई लोग कहते हैं कि हम ख़ुद परेशान हैं तो कैसे हम किसी की मदद कर सकते हैं। य़े बात सरासर गलत है। कहते हैं कि….बचने का दरिद्रता….।

आप अपनी जबान से दरिद्र मत बनिए।आप दूसरों की सहायता कई प्रकार से कर सकते हैं। सबसे बड़ी मदद य़े है कि आप किसी भी परेशान व्यक्ति क़ो गुरुदेव जी की विचारधारा से अवगत करा दीजिए और उस व्यक्ति से कहिए की आप नियमित रूप से माँ की साधना कीजिए। आप यकीन कीजिए कि य़े मदद बहुत बड़ी मदद होगी कि आपने उस व्यक्ति क़ो सारे जीवन के लिए खुशहाल बना दिया। अन्य तरह से मदद किया जा सकता है। आप किसी क़ो ढांढस बंधा कर बोलिए कि हिम्मत मत हारिये,जीवन में सुख दुःख आते जाते रहते हैं, माँ गुरुवर की साधना कीजिए जल्द ही आपकी समस्या क़ा समाधान हो जाएगा। लोगों क़ो भरोसा दीजिए। लोगों क़ो हिम्मत दीजिए। मनुष्य के स्वयं के अन्दर ही तमाम खूबियाँ हैं बस उस व्यक्ति क़ो स्मरण करा दीजिए।

गुरुदेव जी ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि आप दिन भर में अगर चार घंटे पूजा पाठ करते हैं तो उसे कम करके एक घंटे कर दीजिए शेष तीन घंटे जन कल्याण कारी कार्यों में लगाइए। आज हम लोग स्वयं के लाभ में ही केंद्रित होकर सिमट गए हैं। कभी एकान्त में बैठकर सोचिए-विचार करके देखिए कि हम किसी के क्या कोई काम आ रहे हैं या ऐसे ही जिए जा रहे हैं। अगर उत्तर नकारात्मक मिले तो अपना आत्म आकलन कीजिए कि हमसे गलती कहाँ हो रही है। जीवन अल्प समय के लिए मिला है अतः ज्यादा से ज्यादा परोपकार के कार्य कीजिए। यही हमारे साथ जाएगा। बाकी घर, गाड़ी और भौतिक वस्तुएं यहीं धरी रह जाएँगी। दीपावली हो या कोई भी समय हो हर समय सत्कार्यो क़ा ही चिंतन करते रहिए।आज गुरुदेव जी विश्व कल्याण क़ा चिंतन लेकर दिन रात समाज के कल्याण के लिए साधना रत हैं और हम लोग अनर्गल कार्यों में ही लिप्त हैं।

अपने आत्मा के असली स्वरूप क़ो पहचानिए। आत्मा क़ा शोधन ही हमारा लक्ष्य होना चाहिए। प्रतिपल ध्यान रखिए कि हमारे द्वारा कोई दुःखी ना हो, कोई व्यथित ना हो। हम किसी ना किसी के खुशियों क़ा कारण अवश्य बनें।अपने विवेक क़ो जागृत करने का प्रयास करते रहिए। माँ गुरुवर की नियमित साधना द्वारा हमारे संस्कार जागृत होंग़े और हम जनकल्याणकारी कार्यों में शामिल हो पाएँगे। आप सभी क़ो दीपावली पर्व की हार्दिक शुभ कामनाएँ और माँ गुरुवर के क्रमों से आप सभी जुड़े रहें, जिससे सभी क़ा जीवन खुशहाल बना रहे।

जै माता की जै गुरुवर की

लेखक- शिवबहादुर सिंह फरीदाबाद (हरियाणा)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

मध्यप्रदेश के न्यायालयों में नौकरी का मौका, 1255 पदों के लिए ऑनलाइन मंगाए आवेदन, 30 दिसंबर आखिरी तारीख, पढ़िए कैसे करें अप्लाई

मध्यप्रदेश। मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने प्रदेश भर में न्यायालयों में बम्पर भर्ती निकाली है। स्टेनोग्राफर सहित अन्य...

ब्रेकिंग न्यूज: 13 IPS के अधिकारियों के हुए तबादले, कैलाश मकवाना बनाए गए पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष, भिंड और सागर एसपी को हटाया

भोपाल। राज्य सरकार ने बुधवार को 13 आईपीएस अफसरों के तबादले कर दिए हैं। आईपीएस कैलाश मकवाना को...

युबक की संगिध हालत में मिली लाश परिजनों ने हाइवे पर जाम लगाया परिजनों हत्या का मामला दर्ज करने की मांग

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले के बमीठा थाना अंतर्गत ग्राम खरयानी में एक युबक की संगिध हालत में लाश मिली...

Recent Comments

%d bloggers like this: