Home खबरों की खबर अन्य खबरे उत्तरप्रदेश STF ने मुरादाबाद में बलात्कारी बाबा को पकड़ा, आश्रम की युवतियों...

उत्तरप्रदेश STF ने मुरादाबाद में बलात्कारी बाबा को पकड़ा, आश्रम की युवतियों के साथ गैंगरेप का आरोप, साढ़े तीन साल से फरार था बाबा, पुलिस ने 50 हजार का इनाम रखा था

STF ने 50 हजार के इनामी बलात्कारी बाबा सच्चिदानन्द को मुरादाबाद से गिरफ्तार कर लिया है।

बस्ती। उत्तरप्रदेश STF को बड़ी सफलता मिली है। STF ने 50 हजार के इनामी बलात्कारी बाबा सच्चिदानन्द को मुरादाबाद से गिरफ्तार कर लिया है। उसे बस्ती पुलिस टीम को सौंपा गया है। सच्चिदानन्द साढ़े तीन साल से फरार चल रहा था। उस पर आश्रम में रहने वाली महिलाओं और युवतियों के साथ गैंगरेप, रेप, अपहरण सहित अन्य गंभीर धाराओं में सात मुकदमें दर्ज हैं। साढ़े तीन साल से वह फरार चल रहा था।

बिहार का रहने वाला है सच्चिदानन्द
सच्चिदानन्द ने अपने घिनौनी हरकतों को अंजाम देने के लिए अपने कई नाम रखे थे। लोगों को वह दयानन्द, भगतानन्द, प्रशान्त कुमार और सन्त कुमार अलग-अलग नामों से मिला करता था। सच्चिदानन्द मूल रूप से बिहार के मीठापुर के गया गुमटी परमा का निवासी है। बस्ती जिले के लालगंज थाना क्षेत्र के सेल्हरा में सन्त लोक आश्रम रिलिजिंग ट्रस्ट संचालित करता था।

बाबा सच्चिदानन्द को जेल भेज दिया गया है।

यहां उसके आश्रम की साध्वियों ने उसके खिलाफ गैंगरेप सहित अन्य गंभीर धाराओं के तहत कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया था। मुकदमा दर्ज होने के बाद से ही वह फरार था। उसकी गिरफ्तारी और न्याय दिलाए जाने के लिए पीड़िता गुहार लगाती रही। लेकिन बाबा पुलिस के गिरफ्त से बचता रहा। वर्ष 2017 से लेकर वर्ष 2020 के बीच दर्ज मुकदमों में वांछित बाबा के फरार होने के बाद उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने 50 हजार का इनाम घोषित किया था।

बाबा सच्चिदानन्द के दो शिष्य पहले ही हो चुके हैं गिरफ्तार
एसपी आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि सच्चिदानंद और अन्य पर बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म करने सहित अन्य संगीन धाराओं में कोतवाली में केस दर्ज किया गया था। पुलिस ने आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए जगह-जगह दबिश दीं लेकिन वह नहीं मिला। आश्रम की कुर्की तक हुई और 50 हजार का इनाम घोषित किया गया लेकिन बाबा हाथ नहीं लगा। उसका एक शिष्य परमचेतानंद और सेविका उर्मिला बाई को पांच अगस्त 2018 में बभनान रेलवे स्टेशन के पास से गिरफ्तार किया गया था।

दिसम्बर 2017 में यौन शोषण का मामला आया सामने-
दिसंबर 2017 में यौन शोषण का मामला तब प्रकाश में आया था, जब आश्रम से कुछ युवतियों को धक्के मारकर निकाल दिया गया। पीड़िताओं का आरोप था कि सत्संग व प्रवचन के नाम पर महिलाओं और कम उम्र की लड़कियों को आश्रम में बुलाया जाता था। उनमें से कुछ लड़कियों को साध्वी का दर्जा देकर आश्रम में रख लिया जाता था।

उन्हें अनुष्ठान के जरिए विशेष कृपा दिलाने की दिलासा देते थे। उनका विश्वास जीतने के बाद दिल्ली स्थित आश्रम के मुख्यालय और यहां के कथित बाबा व चेलों के निर्देश पर अलग-अलग शहरों में प्रवचन- सत्संग के बहाने भेजकर उनका यौन शोषण किया जाता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बढ़ती महंगाई को लेकर महिला कांग्रेस ने छत्रसाल चौक कांग्रेस कार्यालय के बाहर बैठकर पहले सेकी रोटी,घरेलू गैस सिलेंडर पर पहनाई माला, फिर रोटी...

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिला मुख्यालय पर महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुषमा देवी के निर्देश पर महिला कांग्रेस...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की गोद ली हुई 3 बेटियों की शादी आज, शिवराज सिंह चौहान पत्नी साधना सिंह के साथ करेंगे कन्यादान

तीनों दत्तक बेटियों के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी पत्नी साधना सिंह।

प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी ने बाराणसी में कहा- कोरोना की दूसरी लहर को UP ने जिस तरह संभाला वह अभूतपूर्व है

उत्तरप्रदेश। वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज काशी में हैं। यहां उन्होंने जापान और भारत की दोस्ती...

Recent Comments

%d bloggers like this: