Home खबरों की खबर अन्य खबरे कलेक्टर की अध्यक्षता में टीएल बैठक सम्पन्न, एसडीएम प्रमुखता से पटवारियों की...

कलेक्टर की अध्यक्षता में टीएल बैठक सम्पन्न, एसडीएम प्रमुखता से पटवारियों की समीक्षा करें: कलेक्टर, खनिज, ट्रांसपोर्ट, आबकारी एवं दवा विक्रेता संघ जिला अस्पताल के 1-1 वार्ड को गोद लेंगे: कलेक्टर रैली निकाल कर सेकण्ड डोज लगवाने के लिए प्रेरित करें

छतरपुर जसं। कलेक्टर छतरपुर शीलेन्द्र सिंह ने सोमवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में टीएल प्रकरणों की साप्ताहिक समीक्षा करते हुए कहा कि सीएम हेल्पलाइन की लंबित विभागवार शिकायतों का समय से संतुष्टिपूर्वक समाधान करें तथा 100 दिवस की शिकायतों पर ज्यादा ध्यान दें एवं एक-एक शिकायत पर जिला अधिकारी खुद बात कर संतुष्टीपूर्वक समाधान करें। उन्होंने सभी एसडीएम को निर्देशित किया है कि पटवारियों एवं सुकन्या समृद्धि योजना की समीक्षा करें एवं जनपद सीईओ एवं सीएमओ सभी प्रकार के पेंशनरों का सत्यापन करें।

कलेक्टर श्री सिंह ने स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा करते हुए निर्देशित किया कि महिला एवं बाल विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य विभाग तथा सभी एसडीएम यह सुनिश्चित करें कि कोरोना वैक्सीन के सेकण्ड डोज के लिए एवं कोविड टीकाकरण से पहले एवं दूसरे डोज के लिए छूटे लोगों का टीकाकरण में तेजी लाने के लिए जिले के ग्रामों में जनजागरूकता रैली निकाले एवं सर्वें करते हुए वैक्सीनेशन करवाना सुनिश्चित करें। खनिज, ट्रांसपोर्ट, आबकारी एवं दवा विक्रेता संघ एक-एक वार्ड को गोद लेंगे। उन्होंने कहा कि जिला अस्पताल छतरपुर एवं स्वास्थ्य विभाग में स्वास्थ्य व्यवस्था संबंधी ज्यादा सुधार की आवश्यकता है। इसी को ध्यान में रखते हुए यह विभाग जिला अस्पताल छतरपुर में गोद लिए वार्ड एवं फ्लोर की विजिट करेंगे एवं वहां के मेंटीनेंस, स्वास्थ्य संबंधी आदि कार्यों का ध्यान रखेंगे एवं किसी भी प्रकार की समस्या होने से अवगत कराएंगे।
                   
अधिकारी-कर्मचारी टीकाकरण का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करें-
कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि सभी विभाग प्रमुख एवं विभागों के कर्मचारियों का सेकण्ड डोज का टीकाकरण का प्रमाण पत्र दें। इस कार्य को सीईओ जिला पंचायत नोटिस करें। जिले के स्कूलों में प्रार्थना के समय बच्चों को बताये कि उनके परिवार के सदस्यों को दोनों डोज लग गये कि नहीं इसके लिए उन्हें प्रेरित करें एवं सभी नगरीय निकायों में नियमित अनाउंसमेंट करें।

आकांक्षी जिले के सभी पैरामीटर पर दे ध्यान-
कलेक्टर श्री सिंह ने आकांक्षी जिले की राशि से हो रहे कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि जो भी राशि मिली है उसका बेहतर उपयोग करें एवं आंकाक्षी जिले के कार्यों की हर हफ्ते सभी पैरामीटर पर ध्यान दे। इस पर गंभीरता से कार्य करें। इसमें हर हफ्ते में तीन दिन सीएमएचओ, डीपीसी एवं महिला एवं बाल विकास अधिकारी भ्रमण कर क्या कार्य हुआ है का विवरण दे।

मुख्यालय पर नहीं रहने पर वेतन रोकने के निर्देश, प्राचार्य एवं शिक्षक भी रहें मुख्यालय पर-
 कलेक्टर श्री सिंह ने टीएल बैठक में कहा कि पिछली बैठक में निर्देशित किया गया था कि अधिकारी- कर्मचारी अपने मुख्यालय पर ही निवास करें एवं इसका प्रमाणीकरण भी दें। ऐसा एक हफ्ते में नहीं करने पर संबंधित अधिकारी-कर्मचारी वेतन आहरण नहीं किया जाएगा। सभी अधिकारी-कर्मचारी अपने मुख्यालय या 8 किमी के दायरे में रहे। जिससे कार्य प्रभावित न हो एवं आमजन को आसानी हो तथा इसका प्रमाणीकरण भी भेजना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा है कि कहा कि प्राचार्य एवं शिक्षकों का भी मुख्यालय पर निवास करना सुनिश्चित कराएं। जो अधिकारी-कर्मचारी मुख्यालय पर निवास नहीं करेंगे उनके खिलाफ निलंबन की कार्यवाही की जाएगी।

शिक्षा के स्तर में सुधार लाने से जुड़े मामले गंभीरता से लें, छुट्टी का आवेदन सक्षम अधिकारी की स्वीकृत के बिना अमान्य-
कलेक्टर श्री सिंह ने शिक्षा विभाग की समीक्षा करते हुए जिला अधिकारियों द्वारा शिक्षा की गुणवत्ता एवं स्तर में सुधार लाने के लिए किए गये साप्ताहिक निरीक्षण के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी निरीक्षण के दौरान बच्चों को पढ़ाये तथा शिक्षकों को शिक्षा स्तर में सुधार लाने के लिए उचित मार्गदर्शन भी दे एवं सभी विभागीय अधिकारी नवाचार करते हुए अपनी क्षमतानुरूप तथा जनसहयोेग से स्कूल के बच्चों को कॉपियां एवं सामग्री उपलब्ध कराये। इस दौरान बताया गया कि कई स्कूलों में निरीक्षण के दौरान कहीं-कहीं बच्चों में शिक्षा की गुणवत्ता कम पाई गई एवं शिक्षक बिना अति आवश्यक कार्य के लिए छुट्टी पर पाये गये एवं बच्चों तथा शिक्षकों की उपस्थिति शत-प्रतिशत नहीं पायी गई। ऐसा करने पर उनकों नोटिस जारी करने को कहा गया एवं निर्देशित किया है कि किसी भी सक्षम अधिकारी के बिना स्वीकृति के अवकाश का आवेदन मान्य नहीं होगा।

स्कूलों में स्मार्ट क्लास के संचालन पर भी विशेष ध्यान दें। स्कूलों के साथ-साथ स्वास्थ्य केन्द्रों व आंगनबाड़ी में कुपोषित बच्चों की जानकारी भी ले। हॉस्टल में उपयोग में होने वाले वेडसीट, साबुन एवं जो उत्पाद हमारे जिले में बन रहे हैं आदि सामग्री स्वसहायता समूहों से खरीदे।  कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी डीपीसी को निर्देशित किया है कि जिन स्कूलों की स्थिति खराब पायी गई वहां का निरीक्षण करते हुए स्थिति को सुधारे एवं इसे गंभीरता से लें। इस कार्य में लापरवाही पाए जाने पर उक्त के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

मध्यप्रदेश के न्यायालयों में नौकरी का मौका, 1255 पदों के लिए ऑनलाइन मंगाए आवेदन, 30 दिसंबर आखिरी तारीख, पढ़िए कैसे करें अप्लाई

मध्यप्रदेश। मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने प्रदेश भर में न्यायालयों में बम्पर भर्ती निकाली है। स्टेनोग्राफर सहित अन्य...

ब्रेकिंग न्यूज: 13 IPS के अधिकारियों के हुए तबादले, कैलाश मकवाना बनाए गए पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष, भिंड और सागर एसपी को हटाया

भोपाल। राज्य सरकार ने बुधवार को 13 आईपीएस अफसरों के तबादले कर दिए हैं। आईपीएस कैलाश मकवाना को...

युबक की संगिध हालत में मिली लाश परिजनों ने हाइवे पर जाम लगाया परिजनों हत्या का मामला दर्ज करने की मांग

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले के बमीठा थाना अंतर्गत ग्राम खरयानी में एक युबक की संगिध हालत में लाश मिली...

Recent Comments

%d bloggers like this: