Home खबरों की खबर अन्य खबरे कांग्रेस के चारों उम्मीदवार किए घोषित, दिग्विजय सिंह के करीबी पूर्व विधायक...

कांग्रेस के चारों उम्मीदवार किए घोषित, दिग्विजय सिंह के करीबी पूर्व विधायक राजनारायण सिंह पर लगाया दांव, रैगांव से कल्पना वर्मा तीसरी लड़ेंगी चुनाव, जोबट से जिला अध्यक्ष महेश पटेल को मैदान में उतारा

मध्य प्रदेश। कांग्रेस ने चार सीटों पर होने वाले उप चुनाव के लिए उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। कांग्रेस ने खंडवा से पूर्व विधायक राजनारायण सिंह पुरनी पर दांव लगाया है। पूर्व मंत्री अरुण यादव के दावेदारी छोड़ने के बाद दिग्विजय सिंह के करीबी राजनारायण सिंह पुरनी को टिकट दिया गया है, जबकि इस सीट से बुरहानपुर से निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा अपनी पत्नी जयश्री को टिकट दिलाने के लिए पार्टी पर दबाव बना रहे थे।

कांग्रेस ने रैंगाव से कल्पना वर्मा को टिकट दिया है। जिला पंचायत सदस्य कल्पना दो विधानसभा का चुनाव लड़ चुकी हैं, लेकिन वे हार गई थीं। अब तीसरी बार उन पार्टी ने भरोसा किया है। बताया जाता है कि कल्पना वर्मा को पूर्व मंत्री अजय सिंह राहुल की करीबी हैं, लेकिन फिलहाल उन्हें कमलनाथ के खेमे का माना जाने लगा है। हालांकि सर्वे रिपोर्ट में कल्पना का नाम ही सबसे ऊपर था।
इसी तरह जोबट से आलीराजपुर के कार्यकारी जिला अध्यक्ष महेश पटेल को उम्मीदवार बनाया गया है। महेश के भाई मुकेश पटेल अलीराजपुर से विधायक हैं। इस सीट से पूर्व विधायक सुलोचना रावत प्रबल दावेदार थी, लेकिन उनके पार्टी छोड़कर बीजेपी में जाने के बाद महेश पटेल ही टिकट के एक मात्र दावेदार बचे थे। महेश का परिवार भी राजनीतिक तौर पर दिग्विजय सिंह का करीबी माना जाता है। बता दें कि कांग्रेस ने पृथ्वीपुर से नितेंद्र सिंह राठौर को पहले ही उम्मीदवार घोषित कर दिया था। नितेंद्र पूर्व मंत्री बृजेंद्र सिंह राठौर के पुत्र हैं। बृजेंद्र सिंह का कोरोना से निधन होने के बाद यह सीट रिक्त हुई थी।

70 साल के राज नारायण को तीसरी बार मिला खंडवा सर टिकट-
खंडवा लोकसभा सीट पर कांग्रेस ने राजनारायणसिंह पुरनी को टिकट दिया है। 70 साल के राजनारायण मांधाता विधानसभा से तीन बार के विधायक रहे हैं। पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के करीबी व उनकी सरकार में विधायक थे। 2019 के मांधाता उपचुनाव में कांग्रेस ने उनके बेटे उत्तमपाल सिंह को टिकट दिया था। जो भाजपा के नारायण पटेल के सामने 21 हजार वोटों से हार गए थे। बीते तीन लोकसभा चुनावों में अरुण यादव उम्मीदवारी करते आए है। 15 साल बाद अमिताभ मंडलोई (ब्राह्मण) के बाद राज नाराणसिंह (राजपूत) इस सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार होंगे।

रैगांव से ढाई हार वोट से हारी थी कल्पना-
जिला पंचायत सतना के वार्ड नंबर 2 से जिला पंचायत सदस्य कल्पना वर्मा को कांग्रेस ने रैगांव उप चुनाव में अपना प्रत्याशी घोषित किया है। कल्पना वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस की उम्मीदवार रही हैं। उस बार वे भाजपा के जुगुल किशोर बागरी से लगभग 18 हजार मतों के अंतर से पराजित हुई थी। लेकिन ढाई दशक में यह पहला मौका था जब रैगांव में कांग्रेस दूसरे नंबर तक पहुंची थी। कल्पना को 48489 वोट मिले थे जबकि बसपा की उषा चौधरी को 16677 मत मिले थे। कल्पना वर्मा को कमलनाथ समर्थित माना जा रहा है। हालांकि पिछली बार अजय सिंह राहुल ने कल्पना के पक्ष में जबरदस्त कैम्पेनिंग की थी।

जोबट से महेश को मिला टिकिट महेश के पिता भी विधायक थे-
महेश पटेल आलीराजपुर के दबंग और दिग्गज कांग्रेसी नेता माने जाते हैं महेश पटेल के पिता अवस्था पटेल भी कांग्रेस के विधायक रहे हैं और उनके भाई मुकेश पटेल आलीराजपुर से विधायक है।, इसके पहले 2013 में महेश आलीराजपुर सीट विधायक का चुनाव लड़े भी थे लेकिन बीजेपी के नागर सिंह चौहान से चुनाव हार गए थे। 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने महेश पटेल के बजाय उनके भाई मुकेश पटेल को टिकट दिया और वह 2018 में आलीराजपुर सीट से चुनाव जीतकर विधायक बने।
जोबट से सुलोचना रावत और विशाल रावत के बीजेपी में जाने के बाद महेश पटेल की राह आसान हो गई, जोबट सीट रावत परिवार की परंपरागत जीत रही है, लेकिन 2018 में टिकट ना मिलने पर सुलोचना रावत के बेटे विशाल रावत ने बागी होकर निर्दलीय चुनाव लड़ा था और पार्टी को नुकसान पहुंचाया था इसी वजह से पार्टी का बड़ा खेमा कई नेता और कार्यकर्ता सुलोचना रावत को टिकट देने के पक्ष में नहीं थे।

पृथ्वीपुर से पूर्व मंत्री के बेटे को मिला टिकिट-
विधानसभा सीट पृथ्वीपुर पर कांग्रेस ने पूर्व मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर के बेटे नितेंद्र सिंह को उम्मीदवार घोषित किया है। नितेंद्र होटल कारोबारी भी हैं। पूर्व मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर के कोरोना से निधन के बाद यह सीट खाली हुई थी। ब्रजेन्द्र सिंह 5 बार इसी क्षेत्र से विधायक चुने गए थे। नितेंद्र सिंह ने प्रारंभिक शिक्षा ग्वालियर से और फिर केंद्रीय विद्यालय भोपाल से हायर सेकेंडरी की है। इसके बाद पूसा इंस्टीट्यूट से डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट किया है। ओरछा में एक होटल अमरमहल का संचालन करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

थाना बक्सवाहा पुलिस की कार्यवाही, देशी कट्टा लिए व्यक्ति को किया गिरफ़्तार

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले की पुलिस ने आज दिनांक 18.10.21 को मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई कि ग्राम...

बाल आरोग्य संवर्धन कार्यक्रम के तहत कराया गया बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण

छतरपुर जसं। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह के निर्देशानुसार बाल आरोग्य संवर्धन कार्यक्रम के तहत सोमवार को परियोजना बिजावर...

कलेक्टर की अध्यक्षता में टीएल बैठक सम्पन्न, एसडीएम प्रमुखता से पटवारियों की समीक्षा करें: कलेक्टर, खनिज, ट्रांसपोर्ट, आबकारी एवं दवा विक्रेता संघ जिला अस्पताल...

छतरपुर जसं। कलेक्टर छतरपुर शीलेन्द्र सिंह ने सोमवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में टीएल प्रकरणों की साप्ताहिक समीक्षा...

22 को कैम्पस ड्राइव का आयोजन

छतरपुर जसं। आईटीआई छतरपुर में 22 अक्टूबर शुक्रवार को कैम्पस ड्राइव का आयोजन किया गया है। यह...

Recent Comments

%d bloggers like this: