Home खबरों की खबर अन्य खबरे क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में सांसद-विधायक में हुआ विवाद, प्रभारी मंत्री के...

क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में सांसद-विधायक में हुआ विवाद, प्रभारी मंत्री के सामने बैठक छोड़कर बाहर निकले सांसद खटीक, खरगापुर विधायक और उनके समर्थक

टीकमगढ़ सांसद बीरेंद्र खटीक को मनाने आए कलेक्टर सुभाष कुमार द्विवेदी।

मध्यप्रदेश। टीकमगढ़ जिले में एक जून से अनलॉक की प्रक्रिया को शुरू करने के लिए शनिवार को क्राइसेस मैनेजमेंट की बैठक कलेक्टोरेट सभाकक्ष में हुई। जिसकी अध्यक्षता करने लोक निर्माण विभाग के राज्यमंत्री व कोरोना प्रभारी मंत्री सुरेश धाकड़ पहुंचे थे। बैठक में कोरोना संक्रमण की चर्चा न होकर निजी कामों को लेकर विरोध शुरू हो गया। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष और सांसद ने नगर पालिका के सफाई कर्मियों को कम वेतन और हटाने का मामला उठाया।

जिस पर टीकमगढ़ विधायक राकेश गिरी बोले जहां 50 कर्मचारियों की जरूरत है, वहां कोरोना काल में 150 लोगों को काम दिया गया। ऐसे में कई कर्मचारी अपना काम जिम्मेदारी से नहीं कर रहे हैं, बावजूद इसके उन्हें वेतन दिया जा रहा है। वहीं शहर में हो रहे डामरीकरण को लेकर भी नगर पालिका पर आरोप लगाए गए कि किस मद से यह काम कराया जा रहा है।

ऐसे में विधायक गिरी बोले- अपने क्षेत्र में विकास कार्य करना गलत है क्या? क्षेत्र में हो रहे विकास कार्यों को लेकर लगातार मेरा विरोध किया जा रहा है जिसे मैं बर्दाश्त नहीं करूंगा। पहले जिस काम के लिए बैठक में आए हैं वह निपटा लें, इन मुद्दों को फिर कभी भी उठाया जा सकता है।

इस दाैरान विधायक गिरी और सांसद डॉ. वीरेंद्र खटीक, भाजपा जिलाध्यक्ष अमित नुना, भाजपा महामंत्री अभिषेक खरे रानू और सिंधिया समर्थक विकास यादव के बीच यह नाेंक झाेंक चलती रही। देखते ही देखते क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक भाजपा मैनेजमेंट की बैठक में बदल गई और दो गुट (सांसद और टीकमगढ़ विधायक) खुलकर एक दूसरे के विरोध में सामने आ गए।

जिससे बैठक में जिले को अनलॉक करने की प्रक्रिया भी अधर में लटकती दिखी। इस बीच सांसद डॉ. खटीक, भाजपा जिलाध्यक्ष नुना, महामंत्री खरे सहित खरगापुर विधायक राहुल लोधी बैठक का बहिष्कार करके सभाकक्ष से बाहर निकलकर नीचे आ गए। इनके चले जाने के बाद टीकमगढ़ विधायक और जतारा विधायक सहित अन्य भाजपा पदाधिकारियों के अलावा प्रशासनिक अधिकारियों के साथ प्रभारी मंत्री सुरेश धाकड़ ने बैठक को जारी रखा।

विकास कार्यों को लेकर विरोध बर्दाश्त नहीं कर सकता: विधायक राकेश गिरी –
सांसद खटीक को मनाते दिखे कलेक्टर सुभाष कुमार द्विवेदी
विधायक राकेश गिरी और सांसद वीरेंद्र खटीक के बीच हुई नोंक-झोंक के बाद सांसद बैठक का बहिष्कार करते हुए सभाकक्ष से बाहर नीचे आ गए। जिन्हें मनाने के लिए कलेक्टर सुभाष कुमार द्विवेदी पहुंचे, लेकिन वह गाड़ी में बैठकर अपने निवास पर चले गए। जहां उन्होंने अन्य कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। इस दौरान खरगापुर विधायक राहुल सिंह, जिलाध्यक्ष अमित नुना, जिला महामंत्री अभिषेक खरे रानू भी बैठक से चले गए।

बाजार खोलने पर सभी सुझाव दे रहे थे: प्रभारी मंत्री-
बैठक के बाद प्रभारी मंत्री सुरेश धाकड़ बाहर निकले। इस दौरान उनसे बैठक में हुए विवाद का कारण पूछा, तो उन्होंने कहा कि बैठक में कोई विवाद नहीं हुआ है। सभी लोग अपनी-अपनी बात रख रहे थे, कि बाजार में क्या खोलना है क्या नहीं खोलना है। जब उनसे नगर पालिका के काम को लेकर विवाद हाेना पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है।

सांसद बंगले पर एकत्रित हुए भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारी, जिलाध्यक्ष बोले- कोई विवाद नहीं-
बैठक में विवाद के बाद सांसद डॉ. खटीक के बंगले पर भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारियों की आपातकालीन बैठक आनन-फानन में बुलाई गई। जिसमें पहले से कई पदाधिकारी मौजूद थे। इसके बाद भूमि विकास बैंक के पूर्व अध्यक्ष राजेंद्र तिवारी, पूर्व विधायक केके श्रीवास्तव अपनी निजी एंबुलेंस चलाकर सांसद के बंगले पर पहुंचे।

वहीं जिलाध्यक्ष अमित नुना ने कहा बैठक में हुई अनलॉक की शर्तों को लेकर हम लोगों ने अपनी बात प्रदेश नेतृत्व में रखी हुई है। विवाद का ऐसा कोई कारण नहीं है। सांसद हमारे संगठन के संरक्षक हैं और सभी विधायक हमारे हैं। किसी से कोई विवाद नहीं हुआ। क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में हुए विवाद को लेकर जब सांसद डॉ. खटीक से हमने फोन पर चर्चा करना चाही, तो वह बचते नजर आए।

मेरी प्राथमिकता लोगों को संक्रमण से बचाना, विवाद पर कुछ नहीं कहूंगा-
बैठक में हुए विवाद को लेकर जब टीकमगढ़ सदर विधायक राकेश गिरी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि विवाद को लेकर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा। इस समय मेरी पहली प्राथमिकता है शहर और जिले को कोरोना संक्रमण से बचाना। जिसको लेकर पूरे समय मैं आपदा प्रबंधन की बैठक में शामिल भी रहा।

प्रशासन पार्टी की गुटबाजी से परेशान, आपसी विवाद से कैसे चलेगा शासन-
इन दिनों में जिले में चल रही भाजपा के अंदर गुटबाजी से प्रशासनिक अमला भी परेशान है। जिले के प्रभारी मंत्री धाकड़ के सामने जब इस तरह जिले के जिम्मेदार जनप्रतिनिधि आपस में भिड़ेंगे, तो कैसे शासन चल सकेगा। वहीं लंबे समय से पार्टी में दो गुटों में बंटे होने की चर्चाएं चल रही हैं, जो सबसे सामने आ गए।

कलेक्टर ने कहा अनलॉक को लेकर शनिवार को जारी किए जाएंगे आदेश-
बैठक में हुए विवाद को लेकर कलेक्टर सुभाष कुमार द्विवेदी ने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि बैठक में विवाद को लेकर कोई कमेंट नहीं करूंगा, लेकिन क्राइसिस की बैठक में लिए गए अनलॉक करने के निर्णय को लेकर शनिवार को आदेश जारी करूंगा, कि किस तरह 1 जून से शहर को अनलॉक करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

तेज रफ्तार बाइक अनियंत्रित होकर पेड़ से टकराई, बाइक सवार की मौत, ससुराल जा रहा था युवक

तेज रफ्तार बाइक अनियंत्रित होकर सड़क किनारे स्थित पेड़ से जा टकराई, जिसके चलते बाइक सवार युवक की मौके ही मौत...

लोक निर्माण विभाग में हुए भ्रष्टाचार की होगी जांच, लोक निर्माण राज्यमंत्री सुरेश धाकड़ ने दिए जांच के आदेश

लोक निर्माण राज्यमंत्री ने जांच के दिए आदेश मध्यप्रदेश। टीकमगढ़ जिले में 28 मई...

रोडवेज बस से कुचले बच्चे की मौत, सड़क पर शव ऱखकर जमकर काटा हंगामा

उत्तरप्रदेश। हमीरपुर जिले में बीते रविवार को सदर कोतवाली क्षेत्र के बस स्टैंड में कुरारा की ओर...

कोविड-19 वैक्सीन महाअभियान गढ़ीमलहरा में निकली रैली

छतरपुर ज.सं। कोरोना संक्रमण से बचाव एवं कोविड-19 संक्रमण के वैक्सीनेशन के प्रति लोगो को लोगो को...

Recent Comments

%d bloggers like this: