Home खबरों की खबर अन्य खबरे खंडवा कलेक्टर अनय द्विवेदी की अफसरशाही पहले पत्रकारों को धमकाया फिर नियम...

खंडवा कलेक्टर अनय द्विवेदी की अफसरशाही पहले पत्रकारों को धमकाया फिर नियम विरुद्ध तरीके से PRO का ट्रांसफर कर किया रिलीव, जनसंपर्क आयुक्त ने कहा कलेक्टर को नहीं PRO के ट्रांसफर का अधिकार, यह मुख्यमंत्री के अधिकारों पर अतिक्रमण

मध्यप्रदेश। खंडवा में पत्रकारों को धमकाने वाले कलेक्टर अनय द्विवेदी ने अब जनसंपर्क अधिकारी (PRO) का ट्रांसफर कर उन्हें रिलीव कर दिया। कलेक्टर की तानाशाही का यह मामला खंडवा से निकलकर भोपाल के प्रशासनिक गलियारों में भी गर्मा गया है। जनसंपर्क आयुक्त का कहना है कि कलेक्टर को यह अधिकार ही नहीं है। संगठन का कहना है यह तो सीएम के अधिकारों पर अतिक्रमण है।

कोरोना काल में खंडवा कलेक्टर की सबसे पहली खुन्नस मीडियाकर्मियों पर निकली। दो पत्रकारों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया। जवाब नहीं देने की स्थिति में कार्रवाई के लिए धमकाया गया। इसके अलावा कुछ पत्रकारों को अपने कक्ष में बुलाकर मकान तोड़ने तक की धमकी दी गई। मामला यही नहीं थमा एक पत्रकार को तो वाटसएप कॉलिंग कर अभद्रता की गई। यह अलग बात है कि उस पत्रकार ने भी वाटसएप कॉलिंग पर कलेक्टर की लू उतार दी।

पुलिस थानों को भी भेजी सूचना-
ताजा मामला जनसंपर्क अधिकारी ब्रजेंद्र शर्मा से जुड़ा है। शनिवार को उनको रिलीव कर दिया गया। अपर कलेक्टर शंकरलाल सिंघाड़े के हस्ताक्षर से निकले इस आदेश में प्रशासकीय आधार पर कार्यमुक्त करते हुए आयुक्त जनसंपर्क भोपाल में उपस्थिति दर्ज कराने के लिए कहा गया है। इस आदेश की प्रतिलिपि 43 विभागीय प्रमुखों को भेजी गई। हास्यास्पद यह है कि इस आदेश की प्रतिलिपि पुलिस अधीक्षक के साथ ही थाना प्रभारियों को भी भेजी गई है।

कलेक्टर ने PRO को कार्यमुक्त कर तत्काल बुलवा लिया वाहन-
बताया जाता है कि PRO को कार्यमुक्त करने के साथ ही उनकी गाड़ी भी तत्काल बुलवा ली गई। इस पूरे घटनाक्रम से PRO घबरा गए है। उन्होंने कुछ भी टीका-टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। एक चर्चा यह भी है कि PRO इस वजह से घबरा गए है कि कही कलेक्टर उल्टी सीधी जांच में उन्हें फंसवा न दें।

मुख्यमंत्री-मंत्री हुए दरकिनार, हाशिए पर हैं सरकार-
इस घटनाक्रम में एक तथ्य यह भी सामने आया कि कलेक्टर के सामने सरकार हाशिए पर आ गई है। खंडवा की हरसूद विधानसभा से विधायक और सरकार में कैबिनेट मंत्री विजय शाह है। वे पल-पल की खबर रखते है। ऐसे में भला एक जिम्मेदार अधिकारी को इस तरह कलेक्टर ने कैसे कार्यमुक्त कर दिया। जनसंपर्क विभाग मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के पास है। ऐसे में यह सवाल भी उठ खड़ा हुआ है कि क्या कलेक्टर ने मंत्री और मुख्यमंत्री की सहमति से यह कदम उठाया है या फिर खुद ही सुपरमैन बन गए।

कलेक्टर के निलंबन की करेंगे मांग: अरुण कुमार राठौर-
इस मामले में जनसंपर्क अधिकारी संगठन के प्रदेश अध्यक्ष अरुण कुमार राठौर ने कहा कि इस तरह का आदेश पूरी तरह असंवैधानिक है। हम इसका विरोध करते है। जल्द ही मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपकर कलेक्टर के निलंबन की मांग करेंगे।

ट्रांसफर का अधिकार कलेक्टर को नहीं: आयुक्त जनसंपर्क-
ट्रांसफर करने का अधिकार सिर्फ शासन को है। कलेक्टर को अधिकार नहीं हैं। मैं अभी ऑर्डर देखूंगा। उन्होंने किस आधार पर ट्रांसफर किया है।

  • सुदामा खांडे, आयुक्त जनसंपर्क विभाग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

थाना अलीपुरा पुलिस द्वारा अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह का पर्दाफाश

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले में पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के निर्देशन तथा एसडीओपी नौगांव के मार्गदर्शन में...

कट्टा लेकर घूम रहा यूवक पकड़ाया, सिविल लाइन पुलिस की कार्यवाही

मध्यप्रदेश। छतरपुर पुलिस अधीक्षक एवं अति. पुलिस अधीक्षक के निर्देशन मे एवं श्रीमान नगर पुलिस अधिक्षक के...

मासूम को कुचलने वाले ड्राइवर को नौकरी से निकाला

मध्यप्रदेश। ग्वालियर नगर निगम की कचरा गाड़ी से दो साल की बच्ची को कुचलने के मामले पर...

Recent Comments

%d bloggers like this: