Home खबरों की खबर अन्य खबरे गोरखनाथ मंदिर के शक्तिपीठ में आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे कलश स्थापना,...

गोरखनाथ मंदिर के शक्तिपीठ में आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे कलश स्थापना, गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ करेंगे मॉ शैलपुत्री की अराधना

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो दिवसीय दौरे पर गुरुवार को दोपहर 01 बजे गोरखपुर आ जाएंगे।

उत्तरप्रदेश। शारदीय नवरात्रि के पहले दिन आज सीएम योगी आदित्यनाथ गोरखपुर पहुंचेंगे। वे गोरखपुर स्थित गोरखनाथ मंदिर में मां शैल पुत्री की आराधना करेंगे। गोरखनाथ मंदिर के गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ आज यहां के शक्ति पीठ में कलश की स्थापना करेंगे।

इस अनुष्ठान को पूरा करने के लिए मुख्यमंत्री गुरुवार दोपहर 1 बजे गोरखपुर पहुंचेंगे। उनके मंदिर पहुंचने से पहले मंदिर में एक कलश यात्रा निकाली जाएगी, इस यात्रा के बाद मंदिर परिसर में ही स्थित भीम सरोवर से कलश में जल भरा जाएगा। उसके बाद सीएम योगी इस कलश को स्थापित करेंगे। अपने इस दो दिवसीय दौरे के दौरान सीएम विकास कार्यों को लेकर एक समीक्षा बैठक भी करेंगे।

श्रीदेवी भागवत पाठ, महानिशा पूजा करेंगे पीठाधीश्वर-
नवरात्र में यहां श्रीदेवीभागवत/दुर्गा शप्तशती का पाठ अनवरत चलेगा। इसके साथ ही देवी देवताओं के आवाह्न के साथ पूजन आरती होगी। हर दिन देवी के स्वरूप विशेष की विशिष्ट पूजा होगी। अष्टमी की रात्रि में गोरक्षपीठाधीश्वर के रूप में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ महानिशा पूजन करते हैं। महानिशा पूजन को विशेष शक्ति पूजा समझा जाता है।

नौ दिन व्रत रहते हैं गोरक्षपीठाधीश्वर
नवरात्र में गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ नौ दिन व्रत रहते हैं। मुख्यमंत्री बनने के बाद भी यह सिलसिला जारी है। हालांकि, मुख्यमंत्री बनने के पहले वह अनवरत नौ दिन शक्ति की आराधना के दौरान मंदिर परिसर से बाहर नहीं निकलते थे।

मातृ स्वरूप में कन्याओं का पांव पखारते हैं योगी-
नौ दिन व्रतोपासना की पूर्णाहुति हवन और कन्या पूजन से होती है। गोरक्षपीठाधीश्वर के रूप में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कन्याओं का मातृ स्वरूप में पूजन कर उनका पांव पखारते हैं। यह दृश्य देखने लायक होता है। इस अवसर पर बटुक भैरव के रूप में कुछ बालक भी शामिल होते हैं।

दशमी के जुलूस का रहता है इंतजार
नवरात्र पूर्ण होने पर विजयादशमी के दिन गोरक्षपीठाधीश्वर रथयात्रा जुलूस से मन्दिर से थोड़ी दूरी पर स्थित मानसरोवर मैदान जाते हैं और वहां पहले से चल रही रामलीला में प्रभु श्रीराम का राजतिलक करते हैं। इसी क्रम में विजयादशमी पर श्रद्धालुओं और शिष्यों द्वारा पीठाधीश्वर योगी जी का तिलक कर तिलकोत्सव की भी परंपरा रही है। हालांकि गत वर्ष कोविड प्रोटोकॉल के तहत यह नहीं हो पाया था।

दशमी के दिन दंडाधिकारी की भी भूमिका-
गोरक्षपीठाधीश्वर विजयादशमी के दिन साधु-संतों के आपसी विवादों के समाधान के लिए दंडाधिकारी की भी भूमिका में होते हैं। गत विजयादशमी से लेकर इस विजयादशमी तक यानी वर्षभर के विवादों का योगी द्वारा सर्व स्वीकार्य निपटारा किया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

मृतक महिला के परिजनों ने लगाए हत्या के आरोप,छत्रसाल चौक पर परिजनों ने किया चक्का जाम, पुलिस की समझाइश के बाद खोला गया जाम

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिला मुख्यालय पर मृतक महिला की मां निर्मला कोरी ने आरोप लगाते हुए कहा है...

प्रदेश में खाद की त्राहि-त्राहि, पर मुख्यमंत्री मौन?, बतायें कालाबाजारियों को संरक्षण दे रहा है कौन?: रवि सक्सेना

भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और वरिष्ठ प्रवक्ता रवि सक्सेना ने कहा मध्यप्रदेश के किसान इस समय...

कलेक्टर ने राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम की समीक्षा, टीबी मरीजों के बेहतर उपचार के लिए दिए निर्देश

छतरपुर जसं। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में शनिवार को राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम...

कमिश्नर कार्यालय में फरियादी ने खाया जहर, फंड और पेंशन का पैसा न मिलने से था परेशान, कमिश्नर से समस्या बताने के बाद खा...

कमिश्नर कार्यालय में फरियादी ने खाया जहर। उत्तरप्रदेश। बांदा जिले में फंड और पेंशन...

Recent Comments

%d bloggers like this: