Home खबरों की खबर अन्य खबरे चीन की कपटी चाल, US ने दी भारत को चेतावनी, LAC पर...

चीन की कपटी चाल, US ने दी भारत को चेतावनी, LAC पर ड्रैगन लगातार उठा रहा दावा मजबूत करने वाले कदम

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी कई बार भारत को अपरोक्ष धमकी दे चुके हैं।

नई दिल्ली। करीब 18 महीने से पूर्वी लद्दाख में चल रहे भारत और चीन के सैन्य गतिरोध के बीच भी ड्रैगन अपनी कपटी चाल चलने से बाज नहीं आ रहा है। एकतरफ चीन की तरफ से भारत के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर गतिरोध खत्म करने के लिए बातचीत की जा रही है, दूसरी तरफ चीन LAC पर अपना दावा मजबूत करने के लिए लगातार टेक्टिकल कदम भी उठा रहा है।
चीन के इस कपट की चेतावनी अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की प्रशासन ने भारत को दी है। अमेरिकी रक्षा विभाग की तरफ से 3 नवंबर को जारी की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन की सेना को भारत के साथ गतिरोध के दौरान बहुत सारा वास्तविक सैन्य ऑपरेशन और सामरिक अनुभव हासिल हुआ है।

अरुणाचल के विवादित इलाके में बसाया गांव-
रिपोर्ट में स्पष्ट कहा गया है कि चीन ने अरुणाचल प्रदेश पर अपना दावा मजबूत करने के लिए तिब्बत ऑटोनोमस रीजन और LAC के बीच विवादित जगह पर अपना एक गांव बसा दिया है। इस गांव में 100 घर बनाकर नागरिक बसाए गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने यह गांव साल 2020 में दोनों देशों के बीच पूर्वी लद्दाख में गतिरोध शुरू होने के बाद बसाया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस गांव को बसाने के अलावा भी चीन ने बहुत सारे पक्के इंफ्रास्ट्रक्चर LAC से सटे इलाकों में बनाए हैं। इस दौरान चीन की तरफ से सीमा पर यथास्थिति बनाए रखने के लिए लगातार बातचीत भी जारी रखी गई है।

सितंबर में कई दशक बाद चली पहली गोली, चीन ने भारतीयों पर की फायरिंग-
रिपोर्ट में जून, 2020 में दोनों देशों की सेना के बीच गलवां घाटी में हुए संघर्ष का खास जिक्र है, जिसमें दोनों देशों की तरफ से कई दशक बाद जवानों ने जान गंवाई थी। इसके अलावा रिपोर्ट में 8 सितंबर, 2020 की एक घटना का भी जिक्र किया गया है। इस घटना में चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की पेट्रोल टीम ने पैंगोंग झील के करीब भारतीय सेना के गश्ती दल को चेतावनी देने के लिए फायरिंग की थी। यह दोनों देशों के बीच LAC पर कई दशक बाद गोली चलने की पहली घटना थी।

भारतीय अधिकारियों ने भी माना कि दोनों देशों की सेनाओं के पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर कैलाश रेंज की चोटियों पर कब्जा जमाने के लिए भी संघर्ष हुआ था। अधिकारियों ने यह भी बताया कि इस दौरान भी दोनों पक्षों की तरफ से एक-दूसरे को चेतावनी देने के लिए फायरिंग की गई थी।

बातचीत की गति धीमी, दोनों देश बढ़ा रहे सेनाएं-
रिपोर्ट में दोनों देशों के बीच गतिरोध कम करने के लिए हो रही बातचीत की धीमी गति पर भी चिंता जताई गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस धीमी गति के कारण इस साल जून तक दोनों देशों ने LAC के करीब बड़े पैमाने पर भारी हथियारों समेत सभी तरह के सैनिक साजोसामान की तैनाती बढ़ाई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

करतारपुर साहिब में पाकिस्तानी मॉडल का फोटोशूट मामले में विरोध के बाद स्वाला लाला ने मांगी माफी, भारत ने पाकिस्तानी राजनयिक को तलब किया

चंडीगढ़ एजेंसी। पाकिस्तान स्थित श्री करतारपुर साहिब गुरुद्वारे में पाकिस्तानी मॉडल स्वाला लाला के फोटोशूट करने पर भारत...

ससुराल गए युवक की संदिग्ध मौत, हत्या के आरोप, देवरिया हाईवे जाम

उत्तरप्रदेश। गोरखपुर में ससुराल गए युवक की संदिग्ध मौत हो गई। जिसके बाद परिजनों...

आगरा में फ्लैट में मिला 60 साल की महिला का शव, परिजनों ने जताई हत्या की आशंका

उत्तरप्रदेश। आगरा के थाना छत्ता अंतर्गत जीवनी मंडी में मंगलवार को फ्लैट में एक 60 साल की महिला...

Recent Comments

%d bloggers like this: