Home मध्यप्रदेश चैलेंज के बिना ग्रोथ नहीं: कलेक्टर, मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा एवं...

चैलेंज के बिना ग्रोथ नहीं: कलेक्टर, मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा एवं सम्मान मिले, एम्बुलेंस, व्हीलचेयर और स्ट्रेचर आदि सेवाएं तत्पर मिले शादी होने के बाद महिलाओं की समग्र आईडी तीन दिवस में हो ट्रांसफर, मंशानुरूप कार्य नहीं करने वाली एजेंसी को ब्लैक लिस्ट करें जो काम न करें उन्हें टर्मिनेट तक ले जाएं

छतरपुर जसं। कलेक्टर संदीप जी आर की अध्यक्षता कलेक्ट्रेट सभाकक्ष छतरपुर में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक संपन्न हुई। बैठक में सीएमएचओ डॉ. विजय पथौरिया, बीएमओ, बीपीएम और बीसीएम सहित समिति के सदस्य उपस्थित रहे।

कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग की जिला स्तरीय समीक्षा करते हुये कहा कि जिन महिलाओं की शादी हो चुकी है उनकी समग्र आईडी तीन दिवस के अंदर ट्रांसफर हो जानी चाहिये। जिससें महिलाओं की डिलेवरी उपरांत उन्हें मिलने वाली सहायता राशि में देरी न हों। इस कार्य में साथिया टीम का भी सहयोग लें एवं संबंधित जनपद सीईओ इस कार्य में मदद करेंगे। उन्होंने कहा की सुविधा होने के बाद भी अच्छी सर्विस नहीं मिलती इसका विशेष ध्यान रखें, सर्विस अच्छी दें। उन्हांेने कहा जो कार्य में लापरवाही बरतेगा उन पर प्रभावी कार्यवाही करते हुए उन्हें टर्मिनेट तक ले जाएं। मरीजों को एम्बुलेंस समय पर मिले। यहां शिकायत न आए, इस पर संबंधित के खिलाफ कठोर कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि कोविड के प्रति सचेत रहें एवं अपनी पूरी तैयारी रखें और सैम्पलिंग के कार्य में तेजी लाएं एवं कोविड टीकाकरण के लिए रह गए लोगों को टीका लगवाने के लिए जागरूक करें।

जन्म के 3 दिवस उपरांत ही मिल जाए जन्म प्रमाण पत्र-
 कलेक्टर श्री जी आर ने कहा कि एएनएम और आशाओं को दक्ष बनाये और बीएमओ हर हफ्ते मीटिंग लें। जिससें उन्हें डाटा भेजने में आसानी हो। उन्होंने कहा कि बच्चे के जन्म के तीन दिवस में ही जन्म प्रमाण पत्र जारी हो जाना चाहिये। इसके लिये अभिभावकों परेशान न होना पड़े। उन्होंने कहा कि फैमली प्लानिंग में पंचायत स्तर पर आशाएं, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं एवं बीएमओ जाकर महिला एवं पुरुष नसबंदी के संबंध मंे लोगों को जागरूक बनाएं एवं मिलने वाली सहायता राशि से अवगत कराएं।

कलेक्टर ने कहा कि गर्भवती महिलाओं के प्रथम तिमाही में रजिस्ट्रेशन हो जाना चाहिए। उन्होंने बीएमओं को निर्देश दिये कि ग्रामों का भ्रमण करते हुये जिन गर्भवती महिलाओं का समग्र आईडी नहीं है, बनवाये। जिससे उन्हें जननी सुरक्षा योजना, श्रमिक प्रसूति सहायता, प्रधान मातृ वंदना का लाभ समय पर मिल सके। उन्होंने कहा कि छोटे बच्चों का टीकाकरण नियमित चालू रहे। टारगेट कम न रखें, क्योंकि चेलेंज के बिना ग्रोथ संभव नहीं।
उन्होंने कहा कि एनआरसी फुल रहे जिससे एक्सपर्ट एवं डॉक्टर की देखरेख में कुपोषित बच्चों को जरूरी डाइट, पोषण आहार एवं स्वास्थ्य सेवा मिले।

स्वास्थ्य संस्थाओं में प्रसव नहीं हो रहे है उन संस्थाओं में 15 दिवस में डिलेवरी कार्य प्रारंभ कर दें। सभी स्वास्थ्य संस्था साफ-सुथरी होनी चाहिये एवं डॉक्टर और स्टाफ का व्यवहार मरीजों के साथ प्रसंशनीय रहे। सभी मरीजों को सम्मान मिले। पीएचसी एवं सीएससी केन्द्रांे पर खराब पड़ी सामग्री को रिपेयर करवाएं, खराब सामग्री नहीं पड़ी रहे। उन्होंने कहा कि सभी स्वास्थ्य संस्थाओं के टॉयलेट 24 घण्टे साफ रहें। कलेक्टर ने कहा कि हाई रिक्स महिलाओं को विशेष ध्यान दें एवं समय-समय पर मॉनिटियरिंग करते रहे।

बच्चों को स्वच्छता एवं गुड हैल्थ के बारे में बताएं: कलेक्टर
कलेक्टर ने शिक्षा विभाग को निर्देश देते हुये कहा कि स्वच्छता, पोषण आहार एवं गुड हेल्थ पर स्कूलों में बच्चों से स्लोगन का वाचन करवाएं एवं बीएमओ स्कूलों में जाकर किशोर बच्चों से स्वच्छता, पोषण आहार आदि के बारे में चर्चा करें एवं उन्हें गुड हैल्थ की सलाह दें। जिससे भावी पीढ़ी कुपोषण का शिकार न हो एवं हैल्दी रहे। उन्होंने कहा कि 12 से अधिक उम्र की किशोरियों का ब्लड टेस्ट करते हुए किसी भी प्रकार के हीमोग्लोबिल एवं आयरन संबंधित कमी आने पर उन्हें जरूरी दवाईयां एवं सलाह दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

खून से लथपथ मिली थी पल्लेदार की लाश, परिजनों को हत्या की आशंका

मध्यप्रदेश। दमोह जिला मुख्यालय के नया बाजार नंबर 3 में रहने वाले एक बुजुर्ग पल्लेदार का शव कचोरा...

मजदूरी कर लौट रहा था युवक, आरोपी ने गाली देकर शुरू किया विवाद, मारी चाकू

मध्यप्रदेश। दमोह कोतवाली थाने के बड़ापुरा इलाके में रविवार रात मजदूरी कर लौट रहे युवक को पड़ोसी ने...

फूड पॉइजनिंग से 2 बच्चियों की मौत, 12 की हालत गंभीर

मध्यप्रदेश। छिंदवाड़ा जिले के पांढुर्णा में फूड पॉइजनिंग से दो बच्चियों की मौत हो गई। दोनों ने शादी...

धर्मांतरण मामले में गृहमंत्री का एक्शन, इंटेलिजेंस को प्रदेश के सभी मिशनरी स्कूल पर नजर रखने को कहा

मध्यप्रदेश। भोपाल में सामने आई धर्मांतरण की घटना के बाद मध्यप्रदेश में संचालित सभी मिशनरी स्कूल सरकार की...

Recent Comments

%d bloggers like this: