Home खबरों की खबर अन्य खबरे छज्जा गिरने से घायल महिला ने तोड़ा दम, काफी देर तक मकान...

छज्जा गिरने से घायल महिला ने तोड़ा दम, काफी देर तक मकान के मलबे में दबे होने से थी हालत गंभीर, सोमवार सुबह अचानक बिगड़ी हालत, मौत

पोस्टमार्टम हाउस में रखा महिला का शव, जांच करती पुलिस

मध्यप्रदेश। ग्वालियर में निर्माणाधीन छज्जा गिरने और उसमें परिवार के तीन सदस्यों समेत चार लोगों के दबने के मामले में सोमवार को एक मौत हो गई है। मकान मालिक की पत्नी कृष्णा जोशी घायल थीं। पहले डॉक्टर उनको खतरे से बाहर बता रहे थे, पर देर रात अचानक उनकी सांसे उखड़ने लगीं। सोमवार सुबह 5 बजे महिला ने दम तोड़ दिया। घटना एक दिन पहले रविवार शाम गेंडेवाली सड़क मूर्ति मोहल्ला की है। शेष तीन घायलों की स्थिति ठीक है। पुलिस ने अस्पताल की सूचना पर शव को निगरानी में लेकर पोस्टमार्टम कराया है।

यह है पूरा मामला-
गेंडेवाली सड़क मूर्ति मोहल्ला में रहने वाले अशोक जोशी के मकान का निर्माण कार्य चल रहा है। रविवार को छज्जे पर शौचालय बनवा रहे थे। उसी समय वहां छज्जे पर अशोक, उनकी पत्नी कृष्णा जोशी, बेटा और कारीगर रमाकांत भी मौजूद थे। तभी छज्जा कमजोर होने से वजन सह नहीं सका और अचानक भरभरा कर गिर पड़ा। छज्जे के साथ-साथ उस पर खड़े अशोक, कृष्णा, रमाकांत सहित चारों लोग भी नीचे आ गिरे। मलवा उनके ऊपर आकर गिरा तो वह सभी मलबे में दब गए। आस-पड़ोस के लोगों ने देखा तो तत्काल मदद के लिए दौड़े। इसी समय दमकल दस्ता भी पहुंच गया। मकान के मलबे में दबे लोगों को बाहर निकाला और अस्पताल पहुंचाया। जहां मकान मालिक की पत्नी कृष्णा की हालत गंभीर थी। क्योंकि सबसे आखिर में उसे ही निकाला गया था। सोमवार तड़के 5 बजे इलाज के दौरान कृष्णा की मौत हो गई है।

अचानक बिगड़ी तबीयत, मौत-
JAH के ट्रॉमा सेंटर के ICU में भर्ती कृष्णा जोशी की हालत रविवार शाम से ही ठीक नहीं थी। रात 9 बजे तक लगा स्थिति कन्ट्रोल में है, लेकिन कुछ देर बाद अचानक उनकी हालत बिगड़ने लगी। सांसें उखड़ने लगीं। इसके बाद सोमवार तड़के महिला ने दम तोड़ दिया। पुलिस ने JAH से मिली सूचना के बाद शव को निगरानी में लेकर पोस्टमार्टम कराया है। साथ ही मर्ग कायम कर लिया है।
सबसे ज्यादा देर तक मलबे में रहीं

मकान मालिक अशोक जोशी की पत्नी कृष्णा जोशी जब हादसा हुआ तो छज्जे पर अंदर की तरफ खड़ी थीं। छज्जा गिरा तो वह अंदर दब गईं। उनके ऊपर ढेर सारा सीमेंट, पत्थर व मलबा गिरा। जब लोगों ने बचाव कार्य किया तो वह सबसे नीचे और पीछे दबी थीं। इसलिए उनको निकालने में देरी हो गई। यही कारण था कि वह गंभीर घायल थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बढ़ती महंगाई को लेकर महिला कांग्रेस ने छत्रसाल चौक कांग्रेस कार्यालय के बाहर बैठकर पहले सेकी रोटी,घरेलू गैस सिलेंडर पर पहनाई माला, फिर रोटी...

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिला मुख्यालय पर महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुषमा देवी के निर्देश पर महिला कांग्रेस...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की गोद ली हुई 3 बेटियों की शादी आज, शिवराज सिंह चौहान पत्नी साधना सिंह के साथ करेंगे कन्यादान

तीनों दत्तक बेटियों के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी पत्नी साधना सिंह।

प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी ने बाराणसी में कहा- कोरोना की दूसरी लहर को UP ने जिस तरह संभाला वह अभूतपूर्व है

उत्तरप्रदेश। वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज काशी में हैं। यहां उन्होंने जापान और भारत की दोस्ती...

Recent Comments

%d bloggers like this: