Home खबरों की खबर अन्य खबरे जगत जननी माँ दुर्गा जी क़ी कृपा प्राप्त करने के अनेक माध्यम...

जगत जननी माँ दुर्गा जी क़ी कृपा प्राप्त करने के अनेक माध्यम हैं, हम उन माध्यमों पर अपना ध्यान केंद्रित ही नही करते हैं औऱ सारा समय व्यर्थ के कार्यों में व्यतीत करते रहते हैं

लेखक- शिव बहादुर सिंह फरीदाबाद (हरियाणा)

डेस्क न्यूज। हमने कभी भी रुककर विचार किया ही नही क़ी हम इस धरती पर किस कारण आए है औऱ हमारे जीवन का मूल उद्देश्य क्या है? समस्त मानव जाति का एक ही मूल उद्देश्य है क़ी माँ जगदम्बे क़ी साधना आराधना करें। पूर्ण नशा मुक्त, माँसाहार मुक्त औऱ चरित्र वान जीवन जीने से ही हमें माँ क़ी कृपा प्राप्त होगी।गुरुदेव जी ने मनुष्यों क़ो अनेक माध्यम प्रदान किया है, जिसके फलस्वरूप हर व्यक्ति माँ का आशिर्वाद प्राप्त करके खुश हाल जीवन जी सकता है,पर हम नाना प्रकार के बुरे कर्मों में आज भी लिप्त हैं।

कई लोगों से बोलते हैं क़ी आप गुरुदेव जी द्वारा निर्देशित मार्ग का पालन कीजिए तो वो लोग़ बोलते हैं क़ी मेरे पास समय ही नही है।अभी समय नही मिलता जब कोई मुश्किल आ जाती है तो बार-बार माँ क़ो बोलते हैं क़ी माँ इस बार बचा लीजिए अब जरूर पूजा पाठ करेंगे। ये सर्वथा गलत है। हमक़ो आपको समझना पड़ेगा क़ी सबसे पहले माँ औऱ गुरुवर क़ी साधना करना ही हम सबका पहला काम होना चाहिए। कई लोग़ अपना खुद का भला नही सोचते हैं तो दूसरों के भले के लिए क्या सोचेंगे? तमाम तरह के खुराफात रचते रहते हैं। कई लोग़ अपने दिमाग का दुरुपयोग ऐसे करते हैं औऱ सोचते हैं क़ी उनकी चालाकी कोई दूसरा समझ ही नही पाता होगा ये उनकी नादानी है। इन सब कार्यों में कुछ भी नही रखा है। हम लोग़ अपने व्यवहार क़ो नियन्त्रित इसलिए नही कर पाते क्यूँकि हमारे ग्रह नक्षत्र हमारे भाग्य का निर्धारण करते हैं। जब हम साधना-आराधना करते हैं तो हमारे प्रतिकूल ग्रह भी अनुकूल परिणाम देने लगते हैं।गुरुदेव जी ने महा आरती का क्रम हम सभी क़ो प्रदान किया है।

ऐसे क्रमों में स्वयं भी उपस्थित होकर अन्य लोगों क़ो आने के लिए प्रेरित करना चाहिए। जब हम दूसरों के कल्याण के बारे में सोचने लगते हैं तो माँ गुरुवर हमारा कल्याण स्वतः करने लगते हैं। आगामी शिविर जो फरवरी 2021में आश्रम में होना है उसमें कुछ ना कुछ लोगों क़ो अपने साथ हम लोग़ जरूर लेकर जाएं। जिस किसी क़ो भी हम लोग़ महा आरती में लेकर आएंगे उस व्यक्ति क़ो पक्का लाभ होगा ही होगा। एक व्यक्ति जब गुरुवर क़ी विचारधारा क़ो अपनाता है तो उससे जुड़े अनेक व्यक्तियों के जीवन में परिवर्तन अवश्य होता है। आरती चालीसा पाठ के क्रमों के माध्यम से भी अनेक लोगों क़ो लाभ दिलाया जा सकता है। आप स्वयं भी इन क्रमों में जाएं औऱ दूसरों क़ो भी लेकर जाएं। ये सभी क्रम विशेष लाभकारी क्रम हैं।

जै माता क़ी जै गुरुवर क़ी

1 COMMENT

  1. जय माता दी हमें गुरुमंत्र लेना है और हम मां की कृपा से मां की भक्ति और पूजा पाठ करते है क्या गुरुदेव हमे गुरुमंत्र देंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

थाना अलीपुरा पुलिस द्वारा अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह का पर्दाफाश

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले में पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के निर्देशन तथा एसडीओपी नौगांव के मार्गदर्शन में...

कट्टा लेकर घूम रहा यूवक पकड़ाया, सिविल लाइन पुलिस की कार्यवाही

मध्यप्रदेश। छतरपुर पुलिस अधीक्षक एवं अति. पुलिस अधीक्षक के निर्देशन मे एवं श्रीमान नगर पुलिस अधिक्षक के...

मासूम को कुचलने वाले ड्राइवर को नौकरी से निकाला

मध्यप्रदेश। ग्वालियर नगर निगम की कचरा गाड़ी से दो साल की बच्ची को कुचलने के मामले पर...

Recent Comments

%d bloggers like this: