Home मध्यप्रदेश जनपद CEO शोभित त्रिपाठी के खिलाफ FIR दर्ज, सामूहिक विवाह समारोह में...

जनपद CEO शोभित त्रिपाठी के खिलाफ FIR दर्ज, सामूहिक विवाह समारोह में फर्जी शादी करवाकर 3500 लोगों के निकाले 18. 52 करोड़

मध्यप्रदेश। विदिशा जिले के सिरोंज विकासखंड में कोरोना काल के 14 महीने में सरकारी पैसों से 3500 फर्जी शादियां किए जाने के मामले में बड़ी कार्रवाई हुई है। EOW ने मामले में सिरोंज के तत्कालीन मुख्य कार्यपालन अधिकारी (CEO) शोभित त्रिपाठी के खिलाफ FIR दर्ज की है। शोभित त्रिपाठी मंत्री गोपाल भार्गव के साढ़ू भाई हैं।

जांच में सामने आया कि कोरोना लॉकडाउन के दौरान सामूहिक विवाह समारोह में सरकार ने रोक लगा रखी थी। इस बीच, सिरोंज के तत्कालीन सीईओ शोभित त्रिपाठी ने 1 अप्रैल 2020 से 30 जून 2021 के बीच करीब 3500 हितग्राहियों के विवाह सहायता के नाम पर 18 करोड़ 52 लाख 32 हजार रुपए निकाल लिए। इनमें ऐसे कई लोग शामिल हैं, जिनकी शादी पहले ही हो चुकी थीं। उनके नाम पर भी सरकारी सहायता राशि निकाली गई है। यह पैसा मुख्यमंत्री विवाह योजना के अंतर्गत सरकारी निकाला गया है। फिलहाल, शोभित त्रिपाठी निलंबित हैं।
6 हजार बोगस शादियों की मिली थी शिकायत-
जांच एजेंसी को मिले साक्ष्य में सिरोंज में वर्ष 2019-21 के बीच 5923 शादियां की गई हैं। सभी हितग्राहियों को 51-51 हजार रुपए वितरित किए गए हैं। EOW ने जांच शुरू की, तो इसमें सामने आया कि कोरोना काल में एसडीएम ने 3500 जोड़ों की शादियों के नाम पर सरकारी पैसा निकाला है।

27 साल के युवक की तीन बेटियों की करा दी शादी-
जांच में सामने आया कि 27 साल के युवक की तीन बेटियों की शादी करा दी गई। तीनों बेटियों के नाम पर 51-51 हजार रुपए स्वीकृत कर पैसा निकाल लिया गया। कई ऐसे लोग भी सामने आए जिन्होंने सहायता के लिए आवेदन भी नहीं दिया था। जांच एजेंसी को कई हितग्राहियों के दस्तावेज भी नहीं मिले। माना जा रहा कि घोटाला उजागर होने के बाद अधिकारियों ने भ्रष्टाचार के दस्तावेज गायब कर दिए। एसडीएम के अलावा अन्य कर्मचारियों की भी भूमिका को लेकर जांच की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने भी जताई थी नाराजगी-
मामले को लेकर मध्य प्रदेश के विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने इसे गंभीर बात बताते हुए आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा था कि कोरोना काल में भी एक ही विकासखंड में 6000 शादियां कैसे हो गईं, इसकी जांच कराई जाए। उन्होंने जिला से जांच कराने के बजाय भोपाल से जांच अधिकारी भेजने का निर्देश दिया था।
ज्ञात हो सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने समीक्षा के दौरान विदिशा कलेक्टर उमाशंकर भार्गव से इस मामले को लेकर नाराजगी जताई थी। इसके बाद गुरुवार को त्रिपाठी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बीमारी के चलते महाराजपुर विधायक के निज सचिव विनोद खरे का दिल्ली में निधन

छतरपुर। विनोद खरे पूर्व में पूर्व राज्यमंत्री एवं पूर्व विधायक ललिता यादव के निज सचिव रह चुके हैं...

मानव कल्याण के लिये भगवान अवतरित होते हैं: मुरारीदास जी, ग्राम खम्हरिया में बाबा हरीदास महाराज के बंगले में चल रही श्रीमद्भागवत कथा

मध्यप्रदेश। कटनी जिले के रीठी विकासखण्ड अंतर्गत ग्राम खम्हरिया में बाबा हरीदास महाराज के बंगले में चल रही...

5 वर्षीय बच्चे को बाइक चालक युवक ने मारी टक्कर, बच्चे के सिर में आई चोट, घायल बच्चे को रीठी सीएचसी में कराया गया...

मध्यप्रदेश। कटनी जिले के रीठी तहसील अंतर्गत आने वाले ग्राम छोटा बरहटा के एक 5 वर्षीय बच्चे को...

Recent Comments

%d bloggers like this: