Home खबरों की खबर अन्य खबरे जिले को स्वच्छता के मापदंडों में सबसे बेहतर बनाना है: कलेक्टर विकास...

जिले को स्वच्छता के मापदंडों में सबसे बेहतर बनाना है: कलेक्टर विकास कार्य में प्रगति नहीं होने पर वेतन रोकने के निर्देश

छतरपुर जसं। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिले के जनपद पंचायत सीईओ द्वारा पंचायत स्तर पर किये जा रहे विकास कार्यों की समीक्षा की। बैठक में जिला पंचायत सीईओ सहित सभी जनपद पंचायत सीईओ एवं सहायक यंत्री उपस्थित रहे।

कलेक्टर श्री सिंह ने प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) की विस्तृत समीक्षा की और कहा कि जिन हितग्राहियों की पहली किश्त खातों में भेजी जा चुकी है उनकी दूसरी और तीसरी किश्त निर्धारित समय पर अंतरित करें। सभी आवासों का जीओ टेगिंग कराएं, इसमें लापरवाही नहीं की जाए।

उन्होंने कहा कि मनरेगा योजना के कार्यों में तेजी लाएं और मानव श्रम के जरिये ही कार्य पूर्ण कराएं। उन्होंने कहा कि स्कूल, आंगनबाड़ी भवन, पंचायत भवन सहित शेष अपूर्ण और पुराने कार्य समय पर पूर्ण कराएं। निर्माण कार्य में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें।
कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि चेकडेम, स्टॉप डेम की गुणवत्ता खराब पाये जाने पर संबंधित सीईओ और एई जिम्मेदार होंगे। उन्होंने कहा कि आधार सीडिंग कार्य में तेजी लाएं।  स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत डेली मॉर्निंग फॉलोअप स्वयं करें और अपने अधीनस्थ अमले से भी करवाये। जिले को स्वच्छता के मापदंडों में अव्वल बने रहने के लिए बेहतर सामूहिक प्रयास की जरुरत है।

उन्होंने बक्स्वाहा, गौरिहार, लवकुशनगर एवं राजनगर सीईओ से पंचायतों में हो रहे कार्यों की मॉनिटरिंग नहीं करने पर स्पष्टीकरण मांगा। इसके साथ ही प्रत्येक सीईओ को प्रति सप्ताह दो दिवस पंचायतों का निरीक्षण कर और प्रतिवेदन भेजने के निर्देश दिए। इसके अतिरिक्त निर्माण कार्य स्थल पर साइन बोर्ड लगवाने और नाडेप, सोकपिट, व्यक्तिगत सोकपिट मैजिक पिट, कम्पोस्ट, कचरा भण्डारण केन्द्र आदि महत्वपूर्ण कार्य में लापरवाही बरतने पर सीईओ, एई तथा संबंधित के वेतन रोकने के निर्देश दिए।

उन्होेंने कहा की 50 प्रतिशत से कम प्रगति होने पर वेतन आहरण नही किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगली बैठक तक प्रगति को बढ़ाएं। उन्होंने स्वच्छता सर्वेक्षण ग्रामीण की समीक्षा करते हुए कहा कि लक्ष्य अनुरूप शौचालय पूर्ण कराएं। स्वच्छता संबंधी विकास कार्यों में लापरवाही नहीं बरती जाएं। सभी कार्य समय पर पूर्ण कराये जाये एवं हितग्राही मूलक योजना के कार्य ग्रामों में किये जाये जिससे समय पर लोगों को लाभ मिले।
कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि ग्रामों के भ्रमण के संबंध में मेरे द्वारा दिए गए निर्देश अनुरूप कार्य नहीं करने अथवा लापरवाही बरतने पर कार्यवाही की जाएगी। कोई पात्र हितग्राही योजनाओं आदि कार्यों का लाभ लेने के लिए भटके नही, उसको आसानी से लाभ मिले। ऐसा नहीं पाए जाने पर सीईओ जिम्मेदार होंगे।

कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि वैक्सीनेशन के कार्य में भी तेजी लाये और किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं करें। साथ ही सीईओ भी स्कूलों, आंगनबाडी व स्वास्थ्य केन्द्रों का निरीक्षण करें। उन्होंने बताया की निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार पंचायतों के मतदान केन्द्रों का निरीक्षण कर लें तथा किसी प्रकार की समस्या होनें पर उसे दुरुस्त कराएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

मध्यप्रदेश के न्यायालयों में नौकरी का मौका, 1255 पदों के लिए ऑनलाइन मंगाए आवेदन, 30 दिसंबर आखिरी तारीख, पढ़िए कैसे करें अप्लाई

मध्यप्रदेश। मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने प्रदेश भर में न्यायालयों में बम्पर भर्ती निकाली है। स्टेनोग्राफर सहित अन्य...

ब्रेकिंग न्यूज: 13 IPS के अधिकारियों के हुए तबादले, कैलाश मकवाना बनाए गए पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष, भिंड और सागर एसपी को हटाया

भोपाल। राज्य सरकार ने बुधवार को 13 आईपीएस अफसरों के तबादले कर दिए हैं। आईपीएस कैलाश मकवाना को...

युबक की संगिध हालत में मिली लाश परिजनों ने हाइवे पर जाम लगाया परिजनों हत्या का मामला दर्ज करने की मांग

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले के बमीठा थाना अंतर्गत ग्राम खरयानी में एक युबक की संगिध हालत में लाश मिली...

Recent Comments

%d bloggers like this: