Home खबरों की खबर अन्य खबरे दुखद खबर: मध्यप्रदेश की बेटी की हिमाचल लैंड स्लाइड में मौत, मां...

दुखद खबर: मध्यप्रदेश की बेटी की हिमाचल लैंड स्लाइड में मौत, मां को वीडियो कॉल पर खूबसूरती दिखा रही थी, तभी कॉल कट गया और फिर नहीं जुड़ा, IIT में पढ़ाई के बाद स्पेन जाने वाली थी

मध्यप्रदेश। बैतूल जिले के पाथाखेड़ा में रहने वाले एक परिवार ने हिमाचल के किन्नौर में हुए लैंड स्लाइड में अपनी बेटी खो दी। रविवार को जिस वक्त लैंड स्लाइड हुआ, उस समय प्रतीक्षा (27) मां से वीडियो कॉल पर बात कर रही थी। वह मां को हिमाचल की खूबसूरती दिखा रही थी। यह दोपहर करीब 1.30 बजे का समय था, लेकिन अचानक फोन कट हाे गया और फिर संपर्क नहीं हुआ। शाम 5 बजे परिजन को प्रतीक्षा की मौत की खबर मिली।

प्रतीक्षा के पिता सुनील दीवाकर पाटिल वेस्टर्न कोल फील्ड्स लिमिटेड (WCL) पाथाखेड़ा की तवा-1 खदान में अंडर मैनेजर हैं। सुनील ने बताया कि बेटी बहुत ही होनहार थी। प्रकृति से इतना ज्यादा प्यार था कि चाहकर भी हम उसे हिमाचल जाने से नहीं रोक पाए। प्रतीक्षा घूमने के लिए नागपुर से हिमाचल गई थी। अलग-अलग जगहों के प्राकृतिक सौंदर्य को मोबाइल में कैद कर मां से वीडियो कॉल पर बात करती थी।

रविवार दोपहर किन्नौर के सांगला- छितकुल रोड पर बटसेरी के पास चट्टानें गिरीं। इसकी चपेट में सांगला की ओर जा रहा टैंपो ट्रैवलर आ गया। इसमें ड्राइवर समेत 12 लोग थे। 9 की मौके पर ही मौत हो गई थी। इसमें एक प्रतीक्षा भी है।

IIT से पासआउट थी प्रतीक्षा-
प्रतीक्षा के पिता ने बताया कि बेटी ने IIT खड़गपुर से बी-टेक, एम-टेक किया था। इसके बाद DHL मुंबई और फिर TVS पुणे में जॉब किया। 18 माह के हायर एजुकेशन कोर्स के लिए स्पेन जाने के लिए TVS कंपनी से प्रतीक्षा ने रिजाइन किया था। इस बीच कोरोना की दूसरी लहर आ गई। ऐसे में स्पेन में एडमिशन नहीं मिला। प्रतीक्षा को प्रकृति से प्यार था, इसलिए वह अक्सर पहाड़ी क्षेत्रों और विदेश घूमने जाती थी।

मां ने किया था मना-
पिता ने बताया बेटी ने मां से हिमाचल घूमने जाने की बात कही थी। मां ने बारिश का मौसम होना बताकर घूमने जाने से मना कर दिया था। फिर बेटी ने उनसे पूछा और कहा कि एडमिशन मिलते ही पढ़ाई के लिए विदेश चली जाऊंगी, फिर घूमने को नहीं मिलेगा। पढ़ाई के लिए विदेश जाने की बात सुनकर मां ने हिमाचल जाने की इजाजत दे दी, लेकिन उन्हें इस बात का जरा भी अंदाजा नहीं था कि जिस प्रकृति से उनकी बेटी को इतना प्यार था, उसी प्रकृति की गोद में बेटी हमेशा के लिए सो जाएगी।

महाराष्ट्र से 4 साल पहले पाथाखेड़ा आया परिवार-
प्रतीक्षा के पिता सुनील चार साल पहले तक WCL की महाराष्ट्र स्थित सावनेर कोयला खदान में पदस्थ थे। तबादला होने पर वह बैतूल आए। प्रतीक्षा का शव मंगलवार को सुबह विमान से दिल्ली पहुंचा। परिजन भी दिल्ली पहुंचे और 10 बजे नागपुर के लिए रवाना हो गए। प्रतीक्षा का अंतिम संस्कार नागपुर के कोराडी में किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

प्रदेश में खाद की त्राहि-त्राहि, पर मुख्यमंत्री मौन?, बतायें कालाबाजारियों को संरक्षण दे रहा है कौन?: रवि सक्सेना

भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और वरिष्ठ प्रवक्ता रवि सक्सेना ने कहा मध्यप्रदेश के किसान इस समय...

कलेक्टर ने राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम की समीक्षा, टीबी मरीजों के बेहतर उपचार के लिए दिए निर्देश

छतरपुर जसं। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में शनिवार को राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम...

कमिश्नर कार्यालय में फरियादी ने खाया जहर, फंड और पेंशन का पैसा न मिलने से था परेशान, कमिश्नर से समस्या बताने के बाद खा...

कमिश्नर कार्यालय में फरियादी ने खाया जहर। उत्तरप्रदेश। बांदा जिले में फंड और पेंशन...

Recent Comments

%d bloggers like this: