Home चंडीगढ़ पंजाब कांग्रेस में प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर दो फाड़, मंत्री राणा...

पंजाब कांग्रेस में प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर दो फाड़, मंत्री राणा बोले-कैबिनेट मीटिंग बुलाएं मुख्यमंत्री, भाजपा गवर्नर से बोली- DGP- गृहमंत्री को बर्खास्त करें

चंडीगढ़। पंजाब के फिरोजपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक के मामले में पंजाब कांग्रेस दो फाड़ हो चुकी है। पहले पूर्व प्रदेश प्रधान और कैंपेन कमेटी के चेयरमैन सुनील जाखड़ ने इस पर सवाल उठाए। उसके बाद पंजाब सरकार में मंत्री राणा गुरजीत ने CM चरणजीत चन्नी को कैबिनेट मीटिंग बुलाने की मांग की है। फिरोजपुर से विधायक परमिंदर पिंकी ने इसके लिए DGP को जिम्मेदार ठहरा दिया।
उधर, प्रदेश अध्यक्ष अश्विनी शर्मा के नेतृत्व में भाजपा नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित से मिलने राजभवन पहुंच गया है। इसके बाद शर्मा ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक कांग्रेस प्रायोजित षड़यंत्र था। उन्होंने गवर्नर से मिलकर गृह मंत्री और डीजीपी को बर्खास्त करने की मांग की।

प्रधानमंत्री के रूट की सूचना किसने लीक की, मंत्री और अफसर साथ क्यों नहीं गए-
पीएम के स्वागत के लिए CM और 2 डिप्टी CM नहीं आए। वित्तमंत्री मनप्रीत बादल आए लेकिन पीएम के काफिले में साथ नहीं गए। इसके अलावा चीफ सेक्रेटरी और डीजीपी भी पीएम के काफिले में नहीं थे। इससे साफ पता चलता है कि सब कुछ पूर्व नियोजित था। पीएम का काफिला वहां से गुजरेगा, इसके बारे में किसने सूचना लीक की।

चीफ सेक्रेटरी और DGP की क्लियरेंस के बाद काफिला वहां से निकला-
भाजपा के पंजाब प्रधान अश्वनी शर्मा ने कहा कि जब चीफ सेक्रेटरी और डीजीपी ने क्लियरेंस दी कि रोड से जा सकते हैं तो काफिला निकला। उन्होंने कहा कि पीएम के आने से एक दिन पहले मॉक ड्रिल की गई होगी। जिस प्रकार पीएम का काफिला 20 मिनट रुका और उसके बाद वापस लौटा, यहां से पता चलता है कि पंजाब सरकार किस तरह पीएम की सुरक्षा को लेकर नॉन सीरियस थी। हमने राज्यपाल से यह भी मांग की है कि गृह मंत्री और डीजीपी को तुरंत बर्खास्त किया जाना चाहिए।

जनता ही नकार चुकी, राष्ट्रपति शासन की मांग नहीं की-
राष्ट्रपति शासन के मामले पर शर्मा ने कहा कि इस सरकार को जनता पहले ही बर्खास्त कर चुकी है। 4-5 दिन का समय और बचा हुआ है। जिसे जनता ने नकार दिया, अब जनता ही उसे बर्खास्त करेगी। ऐसा हमारा मानना है। कांग्रेस ने पहले भी पंजाब को आतंकवाद में झोंका था। पंजाब को आग लगाकर कांग्रेस राजनीतिक रोटियां सेंकना चाहती है। हम इस कमेटी को खारिज करते हैं। मुख्यमंत्री सरगना है। उनके द्वारा बनाई कमेटी क्या जांच रिपोर्ट देगी।

मंत्री राणा गुरजीत ने कहा पंजाब सरकार की छवि हुई खराब-
पंजाब की कांग्रेस सरकार में टेक्निकल एजुकेशन मंत्री राणा गुरजीत ने कहा कि देश के PM किसी भी पार्टी के हों, उनका अपमान नहीं होना चाहिए था। लोग इकट्‌ठे हों या न हों, यह उनकी पार्टी का मुद्दा है, लेकिन PM का रास्ता रोका जाना गलत है। उन्होंने कहा कि DGP और गृह मंत्री को यह प्रबंध करने थे। PM को सेफ और वैकल्पिक रूट रखना चाहिए था। इस मामले में सुरक्षा में चूक की जिम्मेदारी फिक्स होनी चाहिए। इससे पंजाब सरकार की छवि खराब हुई है। CM को कैबिनेट मीटिंग बुलाकर इस बारे में बात करनी चाहिए।

कांग्रेस विधायक पिंकी ने कहा DGP को यहां कैंप करना था, वह जिम्मेदार, मुख्यमंत्री ले एक्शन-
विधायक परमिंदर पिंकी ने कहा कि किसानों का विरोध ठीक है, लेकिन DGP का फर्ज था कि उनको अलग रूट देते। PM का कार्यक्रम होता है तो DGP को वहां रहना पड़ता है। अब फरीदकोट और फिरोजपुर के SSP को सस्पेंड करने की बात हो रही है। इसके लिए DGP जिम्मेदार हैं। CM को टाइम बाउंड जांच करवाकर कार्रवाई करनी चाहिए। प्रधानमंत्री किसी एक पार्टी का नहीं बल्कि पूरे देश का होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

करहल से चुनाव लड़ेंगे सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, 2007 से सपा यहां से लगातार जीतती रही है, 2017 की मोदी-योगी लहर में भी पार्टी...

लखनऊ। उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव से जुड़ी बड़ी खबर है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव मैनपुरी की करहल सीट से...

दिल्ली दंगों में हुआ पहली सजा का ऐलान, कोर्ट ने आरोपी को 5 साल की सजा सुनाई

नईदिल्ली। दिल्ली में फरवरी 2020 में हुए दंगों के मामले में गुरुवार को पहली सजा दी गई है।...

रायपुर रेलवे स्टेशन पर मिला डेढ़ करोड़ का सोना

छत्तीसगढ़। रायपुर के रेलवे स्टेशन में दुरंतों ट्रेन से डायरेक्टर रेवेन्यू इंटेलिजेंस (DRI) की टीम ने एक गोल्ड...

Recent Comments

%d bloggers like this: