Home मध्यप्रदेश प्रदेश का एक ऐसा गाँव जहां गॉंव में शादी की शहनाई बहुत...

प्रदेश का एक ऐसा गाँव जहां गॉंव में शादी की शहनाई बहुत कम बजती, बजह जानिए आखिर क्यों, युवाओं से लेकर बूढ़े तक कुँवारे मुआवजा मिलने पर आज भी शादी की आस में

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले जिले का एक ऐसा गाँव आज भी आजादी के बाद से विकास के लिए तरस रहा हैं। प्रदेश में आजादी के बाद कई सरकारे आई लेकिन कभी भी किसी सरकार ने इस गांव के विकास की कभी भी नही सोची उसी का कारण हैं की इस गांव में कोई भी लड़की का पिता अपनी बेटी का विबाह करने को तैयार नहीं हैं जिससे ज्यादातर लोग इस गांव में अविबाहित हैं और बहुत कम ही इस गांव में शहनाई की गूंज सुनाई देती हैं। विकास न होने के चलते इस गांव के लोग जनप्रतिनिधियों और सरकारों को कोसते रहते हैं।

खरयानी गॉंव की भूगोलिक स्थिति-
श्यामरी नदी केन नदी के तट में बसा खरयानी गाँव पन्ना टाइगर रिजर्व पन्ना के गर्व ग्रह में स्थित चारो ओर बाघो की शरण स्थली होने के साथ आने जाने के लिये दुर्गम घने जंगलों के रास्ते साल में चार माह वाहन जा सकते आठ माह नाव से गॉंव जा सकते यह गॉंव दो ओर से नदी एवं दो ओर से पहाड़ो से गिरा है।

यह गाँव विकास से कोसों दूर है यहां का मुख्य धंधा खेती वह भी राई की खेती नदी के कछार में होती है राई की खेती ही जीवन यापन करने का जरिया है इस क्षेत्र को राई की खेती का कटोरा कहते हैं यहाँ जुताई करके राई की बोनी करने के बाद राई की कटाई की जाती है बिना खाद्य पानी के राई की खेती होती है काफी अच्छी मात्रा में राई की उगावनी होती जिससे गॉंव के लोगो का साल भर का खर्च चलता है।

गॉंव में बहुत कम बजती शहनाई-
आवागमन के साधन नहीं होने से इस गॉंव में लड़का लड़कियों की शादी बहुत कम होती है यहाँ पर कोई लड़की देने को तैयार नही होता न लड़की लेने को इस कारण से गाँव के सैकड़ो लड़का लड़की शादी के लिए बैठे हैं। लड़को में तो युवा से बूढे तक शादी की आस लगाये बैठे उनका कहना है कि पहले पन्ना टाइगर रिजर्व पन्ना द्वारा इस गाँव का विस्थापन होना था अब यह गाँव केन बेतवा लिक परियोजना के द्वारा विथापित होना है यदि मुआवजा राशि अच्छी मिल जाये तो हम लोग सड़क के गांवों में बस जायगे तो लड़का लड़कियों की शादी जल्द हो जायेगी अब ऐसी आस लगाए बैठे यहाँ के बाशिन्दे इसी कारण से गाँव मे शहनाई की आवाज बहुत कम सुनाई देती है।

यहाँ के लोग बमीठा बाजार करने वाहनों में ऊपर नीचे जीपों में भरकर जान जोखिम में डालकर गंगऊं बांध की कच्चे रास्ते की 3 कि मी लंबी उची घाट में सफर करते 35 कि मी दूरी का किराया 100 रुपया देते सुबह आकर रात को घर जा पाते। केन बेतवा लिंक परियोजना का कब मुआवजा मिले गाँव शहनाई की आवाज गूजे यहाँ के लड़का लड़कियों की शादी की मुआवजा पर निर्भर है।

(रिपोर्टर- अशोक नामदेव बमीठा खजुराहो)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

खून से लथपथ मिली थी पल्लेदार की लाश, परिजनों को हत्या की आशंका

मध्यप्रदेश। दमोह जिला मुख्यालय के नया बाजार नंबर 3 में रहने वाले एक बुजुर्ग पल्लेदार का शव कचोरा...

मजदूरी कर लौट रहा था युवक, आरोपी ने गाली देकर शुरू किया विवाद, मारी चाकू

मध्यप्रदेश। दमोह कोतवाली थाने के बड़ापुरा इलाके में रविवार रात मजदूरी कर लौट रहे युवक को पड़ोसी ने...

फूड पॉइजनिंग से 2 बच्चियों की मौत, 12 की हालत गंभीर

मध्यप्रदेश। छिंदवाड़ा जिले के पांढुर्णा में फूड पॉइजनिंग से दो बच्चियों की मौत हो गई। दोनों ने शादी...

धर्मांतरण मामले में गृहमंत्री का एक्शन, इंटेलिजेंस को प्रदेश के सभी मिशनरी स्कूल पर नजर रखने को कहा

मध्यप्रदेश। भोपाल में सामने आई धर्मांतरण की घटना के बाद मध्यप्रदेश में संचालित सभी मिशनरी स्कूल सरकार की...

Recent Comments

%d bloggers like this: