Home खबरों की खबर अन्य खबरे ब्रेकिंग न्यूज: प्रदेश के हनीट्रैप मामले में नया मोड़, आरती दयाल की...

ब्रेकिंग न्यूज: प्रदेश के हनीट्रैप मामले में नया मोड़, आरती दयाल की याचिका पर 8 को हाईकोर्ट का नोटिस, पूछा- मानव तस्करी मामले में क्यों न बनाया जाए आरोपी

भोपाल। मध्यप्रदेश के बहुचर्चित हनीट्रैप कांड में नया मोड़ आ गया है। मामले में गिरफ्तार आरोपी आरती दयाल की याचिका पर हाईकोर्ट ने इंदौर नगर निगम के तत्कालीन इंजीनियर हरभजन सिंह समेत आठ लोगों को नोटिस भेजा है। नोटिस में उनसे जवाब मांगा गया है कि मोनिका यादव की मानव तस्करी के मामले में उन्हें आरोपी क्यों न बनाया जाए। चार हफ्ते के अंदर इन सभी को जवाब देने के लिए कहा गया है। इन आठ लोगों में पूर्व मंत्रियों के ओएसडी भी शामिल हैं।

बता दें कि मोनिका यादव के पिता ने इंदौर के पलासिया थाने में बेटी की मानव तस्करी का मामला दर्ज कराया था। इसमें आरती दयाल, श्ववेता जैन, अभिषेक समेत 4 लोगों को आरोपी बनाया गया था। मोनिका यादव ने मुख्य परीक्षण के दौरान दिए अपने बयान में 11 लोगों के नाम बताए थे। बाद में वह सिर्फ आरती दयाल, अभिषेक, श्ववेता को छोड़कर बाकी लोगों के नाम से मुकर गई।

मुख्य परीक्षण के दौरान मोनिका द्वारा दिए गए बयानों को आरती ने आधार बनाकर हाईकोर्ट में याचिका लगा दी। याचिका में उसने मांग की थी कि मोनिका की तरफ से मुख्य परीक्षण के दौरान लिए गए सभी नामों को उसी तरह आरोपी बनाया जाए जिस तरह उस जैसे तीन अन्य लोगों को बनाया गया है। इस पर हाईकोर्ट ने उन सभी लोगों को नोटिस भेजा है, जिनके नाम मोनिका ने मुख्य परीक्षण के दौरान लिए थे। वर्तमान में आरती इंदौर जेल में बंद है। उसके वकील मानस मनी वर्मा ने यह याचिका लगाई कोर्ट में लगाई थी।

हनीट्रैप में कई नेता और अफसरों के नामों की थी चर्चा-
हनीट्रैप मामले की प्रारंभिक जांच में कई नेता और अफसरों के नामों की चर्चा थी। इसी कारण तत्कालीन डीजीपी वीके सिंह ने एसआईटी का गठन किया था। लेकिन विवादों को टालने के लिए नौ दिनों के अंदर ही इस टीम के प्रमुख को तीसरी बार बदल दिया गया था। 23 सितंबर को गठित एसआईटी की जिम्मेदारी सबसे पहले 1997 बैच के आईपीएस डी श्रीनिवास वर्मा को दी गई। गठन के 24 घंटे के अंदर ही एसआईटी की जिम्मेदारी तेजतर्रार अफसरों में शुमार एडीजी संजीव शमी को दी गई। एक अक्तूबर को संजीव शमी को एसआईटी प्रमुख के पद से हटाकर राजेंद्र कुमार को एसआईटी जांच की कमान सौंपी गई थी।

गैंग ऑफ ब्लैकमेलर्स, जो गिरफ्तार हुईं-
आरती दयाल: छतरपुर की रहने वाली। हनीट्रैप कांड में गिरफ्तारी से पहले कृषि, ग्रामीण व पंचायत विभाग से एनजीओ के नाम पर फंडिंग ली। भोपाल-इंदौर में कलेक्टर रहे एक आईएएस की करीबी रही। मीनाल रेसीडेंसी में फ्लैट, होशंगाबाद रोड पर प्लॉट।
श्वेता विजय जैन: मूलत: सागर निवासी। भाजपा में सक्रिय रही। मीनाल रेजीडेंसी में बंगला। बुंदेलखंड, मालवा-निमाड़ के एक-एक पूर्व मंत्री की करीबी रही। एनजीओ को फंडिंग। सागर के एक कलेक्टर संग बंगले पर उनकी पत्नी ने पकड़ा था।
श्वेता स्वप्निल जैन: भोपाल की रहने वाली। रिवेयरा में पूर्व मंत्री के बंगले में 35 हजार महीना किराए से रह रही थी।
बरखा भटनागर सोनी: निमाड़ के एक नेता के साथ कांग्रेस में आई। इन नेता के पूर्व मंत्री के भाई से अच्छे संबंध रहे हैं। एनजीओ के लिए काफी डोनेशन लिया। पति अमित सोनी कांग्रेस आईटी सेल में रहा।
मोनिका यादव: राजगढ़ निवासी। बीएससी की पढ़ाई करने भोपाल आई। गिरफ्तारी के दौरान उम्र 18 वर्ष से थोड़ी अधिक थी। आरती दयाल ने मदद के बहाने उसे हनी ट्रैप के दलदल में ढकेला।

इंदौर से शुरू हुआ हनीट्रैप, पूरे देश में छाया-
17 सितंबर 2019 को इंदौर नगर निगम में कार्यरत इंजीनियर हरभजन सिंह ने पलासिया थाने में खुद को ब्लैकमेल किए जाने की एफआईआर दर्ज कराई थी। एफआईआर में हरभजन सिंह ने दावा किया था कि उन्हें 29 वर्षीय आरती दयाल नाम की एक महिला द्वारा ब्लैकमेल किया जा रहा है। आरती दयाल ने तीन करोड़ रुपये की रंगदारी की मांग की थी। रकम न चुकाने पर इंजीनियर के कथित अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी भी दी गई थी।
पुलिस ने जब जांच शुरू की तब पता चला कि गैंग ने राजनेताओं, नौकरशाहों और कई बड़े रसूखदारों को ब्लैकमेल करने के लिए उनके अश्लील वीडियो बनाए हैं। जिन्हें सार्वजनिक करने की धमकियों के एवज में जबरन वसूली की जाती थी। इस मामले में पुलिस ने भोपाल की संदिग्ध मास्टरमाइंड श्वेता स्वप्निल जैन, श्वेता विजय जैन सहित पांच महिलाओं और एक पुरुष को गिरफ्तार किया था।

श्वेता विजय जैन हनीट्रैप की सूत्रधार थी-
हनीट्रैप कांड की मुख्य आरोपी श्वेता विजय जैन अफसर और नेताओं से आरती समेत गिरोह में शामिल युवतियों की की दोस्ती करवा देती थी। बाद में आरती उन्हें अपने जाल में फंसा कर वीडियो बना लेती थी। फिर श्वेता के इशारे पर रुपये वसूलने का काम होता था। इंजीनियर के लिए भी इसी तरह जाल बिछाया गया था। आरती दयाल उर्फ आरती अहिरवार उर्फ ज्योत्सना ने पूछताछ में बताया था कि गिरोह की मुखिया श्वेता विजय जैन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

करतारपुर साहिब में पाकिस्तानी मॉडल का फोटोशूट मामले में विरोध के बाद स्वाला लाला ने मांगी माफी, भारत ने पाकिस्तानी राजनयिक को तलब किया

चंडीगढ़ एजेंसी। पाकिस्तान स्थित श्री करतारपुर साहिब गुरुद्वारे में पाकिस्तानी मॉडल स्वाला लाला के फोटोशूट करने पर भारत...

ससुराल गए युवक की संदिग्ध मौत, हत्या के आरोप, देवरिया हाईवे जाम

उत्तरप्रदेश। गोरखपुर में ससुराल गए युवक की संदिग्ध मौत हो गई। जिसके बाद परिजनों...

आगरा में फ्लैट में मिला 60 साल की महिला का शव, परिजनों ने जताई हत्या की आशंका

उत्तरप्रदेश। आगरा के थाना छत्ता अंतर्गत जीवनी मंडी में मंगलवार को फ्लैट में एक 60 साल की महिला...

Recent Comments

%d bloggers like this: