Home खबरों की खबर अन्य खबरे बड़ी खबर: डेल्टा वैरिएंट पर नई चेतावनी आई सामने, वायरस का डेल्टा...

बड़ी खबर: डेल्टा वैरिएंट पर नई चेतावनी आई सामने, वायरस का डेल्टा वैरिएंट चेचक की तरह तेजी से फैल सकता है, वैक्सीन लगवा चुके लोग भी संक्रमण फैला सकते हैं

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के डेल्टा वैरिएंट को लेकर परेशान करने वाली खबर सामने आई है। अमेरिकी स्टडी में खुलासा हुआ है कि कोरोना का यह वैरिएंट चिकनपॉक्स की तरह लोगों में तेजी से फैल सकता है। अमेरिका के रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (CDC) की यह स्टडी अभी पब्लिश नहीं हुई है, लेकिन न्यूयॉर्क टाइम्स में इसका एक डॉक्युमेंट छपा है। कोरोनावायरस के दूसरे वैरिएंट्स की तुलना में डेल्टा वैरिएंट ज्यादा संक्रामक है और UK में कोरोना के 99% केस डेल्ट वैरिएंट की वजह से ही सामने आए हैं।

वायरस पर की गई स्टडी में चिंताजनक बात ये भी है कि वैक्सीन की दोनों डोज लगवा चुके लोग भी वैक्सीन न लगवाने वालों की तरह ही डेल्टा वैरिएंट को फैला सकते हैं। CDC के डायरेक्टर डॉ रोशेल पी वालेंस्की ने बताया कि वैक्सीनेशन करा चुके लोगों की नाक और गले में उतना ही वायरस होता है, जितना कि टीकाकरण न कराने वालों में, जिससे ये आसानी से फैल जाता है।

वैक्सीन गंभीर रूप से बीमार होने से बचाएगी-
हालांकि, इस डॉक्युमेंट में बताया गया है कि वैक्सीन की दोनों डोज लगवा चुके लोग सुरक्षित हैं। वैक्सीन गंभीर रूप से बीमार होने से 90% तक बचाती है लेकिन इससे वायरस के संक्रमण और ट्रांसमिशन से बचाव कम होता है। यही वजह है कि वैक्सीनेशन के बाद भी लोग कोरोना के डेल्टा वैरिएंट से संक्रमित हुए।

डेल्टा वैरिएंट में वायरस की संख्या हजार गुना ज्यादा-
डॉक्युमेंट में बताया गया है कि डेल्टा वैरिएंट हवा में जितनी तेजी से वायरस फैलाता है, वो अल्फा की तुलना में 10 गुना अधिक है। डेल्टा से संक्रमित व्यक्ति में वायरस की मात्रा वायरस के मूल संस्करण से संक्रमित लोगों की तुलना में एक हजार गुना अधिक है। डेल्टा उन वायरस की तुलना में तेजी से फैलता है जिसने MERS, सार्स, इबोला, सामान्य सर्दी, मौसमी फ्लू होता है। यह चेचक की तरह ही संक्रामक है।

गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है डेल्टा-
डेल्टा वैरिएंट का पहला मामला भारत में मिला था। इसे B.1.617.2 के रूप में जाना जाता है। यह गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है। डेल्टा पर हुई इस स्टडी ने CDC वैज्ञानिकों को अलर्ट कर दिया है। अधिकारी ने कहा कि CDC इसे लेकर चिंतित है। डेल्टा गंभीर खतरा है और इस पर एक्शन लेने की जरूरत है। CDC ने 24 जुलाई तक के आंकड़े जुटाए हैं। वैक्सीनेशन करा चुके 162 मिलियन अमेरिकियों में हर हफ्ते करीब 35 हजार सिम्प्टोमैटिक इंफेक्शन मिले।

संक्रमण की रोकथाम के उपायों का पालन जरूरी-
CDC डॉक्युमेंट कई अध्ययनों के डेटा पर निर्भर करता है, जिसमें प्रोविंसेटाउन, मैसाचुसेट्स में वायरस के प्रकोप का विश्लेषण शामिल है। डायरेक्टर ने कहा कि वायरस को रोकने के कुछ तरीके हैं जिन पर सभी को ध्यान देना होगा। जैसे कि मास्क पहनने की सख्त जरूरत है। स्कूल में स्टूडेंट्स, स्टाफ और विजिटर्स को भी मास्क पहनना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

थाना बक्सवाहा पुलिस की कार्यवाही, देशी कट्टा लिए व्यक्ति को किया गिरफ़्तार

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले की पुलिस ने आज दिनांक 18.10.21 को मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई कि ग्राम...

बाल आरोग्य संवर्धन कार्यक्रम के तहत कराया गया बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण

छतरपुर जसं। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह के निर्देशानुसार बाल आरोग्य संवर्धन कार्यक्रम के तहत सोमवार को परियोजना बिजावर...

कलेक्टर की अध्यक्षता में टीएल बैठक सम्पन्न, एसडीएम प्रमुखता से पटवारियों की समीक्षा करें: कलेक्टर, खनिज, ट्रांसपोर्ट, आबकारी एवं दवा विक्रेता संघ जिला अस्पताल...

छतरपुर जसं। कलेक्टर छतरपुर शीलेन्द्र सिंह ने सोमवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में टीएल प्रकरणों की साप्ताहिक समीक्षा...

22 को कैम्पस ड्राइव का आयोजन

छतरपुर जसं। आईटीआई छतरपुर में 22 अक्टूबर शुक्रवार को कैम्पस ड्राइव का आयोजन किया गया है। यह...

Recent Comments

%d bloggers like this: