Home खबरों की खबर अन्य खबरे ममता बनर्जी राहत से पहले हुई आहत, दीदी नंदीग्राम में जिनसे हारी...

ममता बनर्जी राहत से पहले हुई आहत, दीदी नंदीग्राम में जिनसे हारी थीं, उन्हीं शुभेंदु अधिकारी को बैठक में बुलाने पर भड़कीं दीदी

ममता बनर्जी और शुभेन्दु अधिकारी की फाइल फोटो।

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में चुनाव के वक्त से शुरू हुई केंद्र और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तनातनी अब तक जारी है। शुक्रवार को यास तूफान से हुए नुकसान का जायजा लेने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल पहुंचे तो ममता उनकी रिव्यू मीटिंग में समय से नहीं पहुंची। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वे मीटिंग में शुभेंदु अधिकारी को बुलाए जाने से नाराज थीं। हाल में हुए विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम सीट से लड़ीं ममता शुभेंदु से हार गई थीं।

उन्होंने कहा कि यदि शुभेंदु अधिकारी बैठक में शामिल हो रहे हैं तो उनका जाना मुश्किल है। सूत्रों के अनुसार, ममता और चीफ सेक्रेटरी एक ही परिसर में होने के बावजूद बैठक के लिए 30 मिनट की देरी से पहुंचे।

मोदी और ममता के बीच 15 मिनट हुई मुलाकात-
इस दौरान ममता ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात कर तूफान से हुए नुकसान की प्राइमरी रिपोर्ट सौंपी। दोनों नेताओं के बीच करीब 15 मिनट बात हुई। यह मुलाकात पश्चिमी मेदिनीपुर जिले में कलाईकुंडा में हुई। अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी को राज्य की स्थिति और तूफान से सबसे ज्यादा प्रभावित इलाकों के बारे में जानकारी दी है। ममता खुद भी शनिवार को प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे करेंगी।

बाद में ममता ने कहा कि PM ने मीटिंग बुलाई थी। हमें नहीं पता था कि दीघा में मेरी मुलाकात थी। मैं कलाईकुंडा गई और प्रधानमंत्री को रिपोर्ट दी। साथ ही दीघा और सुंदरबन के विकास के लिए 10 और 20 हजार करोड़ रुपए की मांग की। मैंने उनसे कहा कि राज्य के अधिकारी मुझसे मिलना चाहते हैं। मैंने उनकी अनुमति ली और चली आई।

एक हजार करोड़ का राहत पैकेज
केंद्र सरकार ने प्रभावित लोगों के लिए एक हजार करोड़ रुपए के राहत पैकेज का ऐलान किया है। इनमें तुरंत राहत के लिए 500 करोड़ ओडिशा को और 500 करोड़ रुपए बंगाल-झारखंड को दिए जाएंगे। यह रकम नुकसान के आधार पर दी जाएगी। प्रधानमंत्री ने तीनों राज्यों को भरोसा दिया कि केंद्र सरकार इस मुश्किल वक्त में हर संभव मदद करेगी।

केंद्र प्रभावित राज्यों में नुकसान का जायजा लेने के लिए एक इंटर मिनिस्ट्रियल टीम भेजेगा। साथ ही तूफान से तबाह हुए बुनियादी ढांचे को दोबारा तैयार करने में भी मदद करेगा। प्रधानमंत्री मोदी ने ओडिशा सरकार की ओर से तूफान से निपटने के लिए की गई तैयारियों की तारीफ की, जिससे कम से कम जानमाल का नुकसान हुआ है। हालांकि, उन्होंने बंगाल का जिक्र नहीं किया।

ओडिशा के मुख्यमंत्री के साथ की समीक्षा बैठक-
प्रधानमंत्री मोदी बंगाल और ओडिशा के दौरे पर हैं। पहले वे ओडिशा पहुंचे। भुवनेश्वर में उन्होंने मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के साथ यास के प्रभाव पर बैठक की। इस बैठक में राज्यों के आला अफसर भी मौजूद रहे। प्रधानमंत्री को बताया गया कि चक्रवात से सबसे ज्यादा नुकसान ओडिशा में हुआ है। पश्चिम बंगाल और झारखंड के कुछ हिस्से भी प्रभावित हुए हैं।

ओडिशा और बंगाल का एरियल सर्वे किया-
साइक्लोन यास से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने ओडिशा के भद्रक और बालेश्वर जिलों और पश्चिम बंगाल के पूर्व मेदिनीपुर का हवाई सर्वे किया। इन्हीं जिलों में ही तूफान ने सबसे ज्यादा तबाही मचाई है। इधर, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने बताया कि सुबह 5 बजे के आसपास बिहार और उससे सटे झारखंड के इलाके में तूफान का असर कम हो गया है।

तस्वीर साउथ 24 परगना की है। यहां तूफान के बाद तेज बारिश से जगह-जगह पानी भरा गया। इस दौरान एक शख्स सामान लादकर सुरक्षित स्थान पर जाता हुआ।
तस्वीर साउथ 24 परगना की है। यहां तूफान के बाद तेज बारिश से जगह-जगह पानी भरा गया। इस दौरान एक शख्स सामान लादकर सुरक्षित स्थान पर जाता हुआ।

सामान्य जीवन जल्द से जल्द बहाल करने के निर्देश-
इससे पहले गुरुवार को तूफान के प्रभाव को लेकर प्रधानमंत्री ने एक रिव्यू मीटिंग की थी। आधिकारिक प्रेस रिलीज जारी कर बताया कि मीटिंग में कई पहलुओं पर चर्चा हुई। इसमें बताया कि NDRF की करीबन 106 टीमों को बंगाल और 46 टीमों को ओडिशा में तैनात किया गया था। इस दौरान 1000 से ज्यादा लोगों को बचाया और 2500 से पोल और पेड़ को हटाया। इनकी वजह से सड़कें जाम हो गईं थी।

तस्वीर सुंदरवन के गोसाबा गांव की है। यहां तूफान ने ज्यादा नुकसान पहुंचाया। इस दौरान गांव के लोगों का रेस्क्यू कर उन्हें सुरक्षित स्थान पहुंचाया गया।

मीटिंग में बताया गया कि अधिकतर इलाकों में दूरसंचार और बिजली की सेवाएं बहाल कर दी गई है। मीटिंग में PM ने कहा कि केंद्र और राज्यों में एजेंसियों ने तूफान की चुनौतियों से निपटने में प्रभावी और सक्रिय भूमिका निभाई। साथ ही उन्होंने एजेंसियों को प्रभावित क्षेत्रों में सामान्य जीवन जल्द से जल्द बहाल करने के निर्देश दिए।

दोनों राज्यों में 21 लाख से ज्यादा लोग हुए प्रभावित-
बंगाल और ओडिशा में तूफान की वजह से 21 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। बारिश और घरों के टूटने की वजह से 4 लोगों की मौत हो गई। इनमें 3 ओडिशा और एक बंगाल से है। पूर्व मेदिनीपुर जिले के दीघा, शंकरपुर, मंदारमनी दक्षिण 24 परगना जिले के बाद बकखाली, संदेशखाली, सागर, फ्रेजरगंज, सुंदरबन आदि जगहों से लेकर पूरे बंगाल में 3 लाख लोगों के घर इस तूफान से उजड़ गए। 134 बांध टूट गए, जिन्हें ठीक करवाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ब्रेकिंग न्यूज: बीजिंग में UN के कार्यक्रम में भारतीय राजदूत ने बोलना शुरू किया तो माइक बंद हुआ, वे चीन की परियोजना की आलोचना...

भारतीय राजदूत प्रियंका सोहोनी ने संयुक्त राष्ट्र की कॉन्फ्रेंस में चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव पर भारत की तरफ से...

बड़ी खबर: ड्रग्स केस में बॉलीवुड एक्ट्रेस अनन्या पांडे के घर NCB की रेड

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस अनन्या पांडे के घर NCB ने गुरुवार को छापेमारी की। रिपोर्ट्स के मुताबिक, क्रूज...

किसानों के साथ अन्याय करने वालों पर कलेक्टर शीलेंद्र सिंह की जारी है सख्ती, अधिक दामों पर खाद बेचने पर 4 मामला दर्ज

मध्यप्रदेश। छतरपुर कलेक्टर शीलेंद्र सिंह के सख्त तेवर लगातार दिखाई दे रहे हैं, यह तेवर उनके खिलाफ...

तेज रफ्तार बाइक पुलिया से टकराई, उछलकर रोड पर गिरे दोनों युवक, मौके पर ही मौत

बाइक पुलिया से टकरा गई और दोनों युवक उछलकर रोड पर गिरे, जिसमें उनके सिर पर गंभीर चोट आई।

Recent Comments

%d bloggers like this: