Home मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का ऐलान, 31 मई के बाद धीरे-धीरे शहरों में...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का ऐलान, 31 मई के बाद धीरे-धीरे शहरों में दी जाएगी ढील, टेस्टिंग रहेगी जारी, कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की पेंशन योजना 30 नवंबर से होगी शुरू

मध्यप्रदेश। सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना संक्रमण की समीक्षा के लिए सागर पहुंचे। समीक्षा बैठक में सागर संभाग के छतरपुर, टीकमगढ़, पन्ना, दमोह और निवाड़ी जिलों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की।

बैठक में सीएम चौहान ने कहा कोरोना काल में जो बच्चे अनाथ हो गए हैं, उनके लिए योजना बनी है। उन्हें 5 हजार रुपए पेंशन दी जाएगी। नि:शुल्क शिक्षा और राशन दिया जाएगा। सभी कलेक्टर्स ऐसे बच्चों की सूची तैयार कर लें। 30 नवंबर से मैं इस योजना को प्रारंभ करना चाहता हूं।

बता दें कि इस योजना की घोषणा मुख्यमंत्री ने 13 मई को थी। इसके बाद सरकार ने इसका आदेश भी जारी कर दिया है। इसके अलावा सीएम ने कहा हम 31 मई के बाद धीरे-धीरे शहरों को खोलना शुरू करेंगे और टेस्टिंग जारी रहेगी। कोविड केयर सेंटर कोई नहीं मिटाएगा, जो सरकारी बने हैं वो भी चलते रहेंगे। जितने भी अस्पतालों में जो व्यवस्था है सरकारी और गैर सरकारी जितनी सुविधा हैं वह जारी रहेंगी।

बैठक में कहा कि कई गांव हमारे ऐसे हैं जो संक्रमण के भयानक दौर में भी संक्रमित नहीं हुए। 31 मई तक किसी भी कीमत पर हमको अपने बुंदेलखंड को कोरोना मुक्त करना है। सख्ती अभी जारी रहेगी। ये बहुरुपिया वायरस है। एक बार बढऩा शुरू किया तो कोई सीमा नहीं है बढऩे की। टेस्टिंंग का टारगेट नहीं है। जितनी हो उतनी करो। अकेला टेस्ट हमारे पास साधन है। मैं भी अपना टेस्ट हर माह करवा रहा हूं।

किल कोरोना अभियान अनलॉक के बाद भी हम चलाते रहेंगे। हम तीसरी लहर की तैयारी करें। इससे घबराने की जरूरत नहीं है। अगर हम निश्चिंत हो गए और मान लिया कि गया कोरोना गया तो तीसरी लहर को आने से कोई रोक नहीं सकता। भोपाल से जो सहयोग चाहिए राज्य स्तर का वह अपको देंगे, अस्पतलों में विशेषकर बच्चों का वार्ड, पोस्ट कोविड केयर सेंटर भी होना चाहिए।


वैक्सीनेशन का अभियान चलाएंगे


बैठक में सीएम ने कहा वैक्सीनेसन का अभियान चलाना होगा। गांव की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की ड्यूटी है कि वह लोगों को जागरूक करें। पहले से व्यवस्था कर लें, वैक्सीन का एक भी डोज खराब नहीं होना चाहिए।

बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि 45 वर्ष से ज्यादा उम्र के कई लोग वैक्सीन लगवाने के लिए उत्सुक नहीं हैं। 18+ लोगों में उत्साह है, लेकिन सभी जगह यह भी समान नहीं है। खासतौर से गांवों में वैक्सीन लगवाने को लेकर कम रुचि दिखाई देर रही है। वैक्सीनेशन के प्रति जागरुकता के लिए भी अभियान चलाया जाएगा।

सीएम ने होम आइसोलेशन के मरीजों की निगरानी के निर्देश दिए। साथ ही, संक्रमण की रोकथाम के लिए शहर से गांव तक योजना के तहत काम करने संघन टेस्टिंग कराने के निर्देश दिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रोडवेज बस से कुचले बच्चे की मौत, सड़क पर शव ऱखकर जमकर काटा हंगामा

उत्तरप्रदेश। हमीरपुर जिले में बीते रविवार को सदर कोतवाली क्षेत्र के बस स्टैंड में कुरारा की ओर...

कोविड-19 वैक्सीन महाअभियान गढ़ीमलहरा में निकली रैली

छतरपुर ज.सं। कोरोना संक्रमण से बचाव एवं कोविड-19 संक्रमण के वैक्सीनेशन के प्रति लोगो को लोगो को...

एक संक्रमित हुआ डिस्चार्ज

छतरपुर ज.सं। छतरपुर जिले में शनिवार को 01 कोविड संक्रमित मरीज को खजुराहो कोविड केयर सेंटर से...

प्राचार्य ने टीकाकरण कराने की अपील की

छतरपुर ज.सं। शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय क्रमांक-1 छतरपुर के प्राचार्य एस.के. उपाध्याय ने छात्रों, उनके माता-पिता सहित जिले...

Recent Comments

%d bloggers like this: