Home खबरों की खबर अन्य खबरे राष्ट्रीय राजमार्ग के द्वारा प्रभावितो आठ माह बाद भी मुआवजा राशि नही...

राष्ट्रीय राजमार्ग के द्वारा प्रभावितो आठ माह बाद भी मुआवजा राशि नही दी, कुछ परिवार झोपड़ी में रहकर दाने दाने को हुए मोहताज

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले के बमीठा में राष्ट्रीय राजमार्ग खजुराहो झांसी के निर्माण के लिए भूमि का अधिग्रहण कर लिया गया 5 मार्च 2021 को बमीठा में राष्ट्रीय राजमार्ग द्वारा भूमि अधिग्रहण कर मकान गिरा कर भूमि अधिग्रहण कर ली गई है बमीठा में 17 लोगों के अवार्ड 2020 में पारित किये गए थे इन लोगों मैं तीन परिवार ऐसे भी है जो बहुत ही दयनीय स्थिति में अपना जीवन बसर कर रहे हैं बमीठा की खसरा नंबर 905 रकवा ०.०42 में मलतू नामदेव ,रकवा ०.०23 में हामिद खान, रकवा ०.25 में राधेश्याम सेन का मकान निर्माण था जिसको राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण कार्य में लगी कंपनी ने 5 मार्च 2021 को तोड़कर भूमि अधिकरण कर ली गई थी।

इन लोगों को आज दिनांक तक भूमि एवं मकान निर्माण की मुआवजा राशि नहीं मिली मलतू नामदेव परिवार के मुखिया हैं जो विकलांग हैं परिवार का भरणपोषण करने असमर्थ हो गए इनके परिवार में एक बच्चा जिसकी मानसिक हालत सही नहीं होने पर ग्वालियर का इलाज चलता बच्ची भी मानसिक रोगी है तथा मलतू नामदेव विकलांग है जो झोपड़ी बनाकर परिवार के साथ रहने को मजबूर हैं इनकी हालत बहुत ही दयनीय है यह लोग कई बार वरिष्ठ अधिकारियों के ऑफिसों के चक्कर लगा चुके हैं।

इन लोगों को भूमि एवं मकान की मुआवजा राशि नहीं मिली है बमीठा के 17 लोगों ने एस डी एम एवं थाना प्रभारी को आवेदन दिया है कि यदि 7 दिवस के अंदर मुआवजा राशि नहीं मिलती है तो हम लोग राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण कार्य को रुकेंगे आंदोलन करेंगे कई लोगों ने तो यहां तक कहा है यदि हमें मुआवजा राशि नहीं दी गई तो हम एस डी एम ऑफिस में जाकर परिवार सहित आत्मदाह करेंगे अब देखना है कि प्रभावित परिवारों को शासन कब तक मुआवजा राशि दिलाएगी राष्ट्रीय राजमार्ग द्वारा भूमि एवं मकान तो गिरा दिए गए हैं लेकिन मुआवजा राशि देने में बहुत सी विसंगतियां है।

जैसे केंद्र सरकार ने भूमि अधिग्रहण एक्ट 2013 में लागू किया था जिसके तहत जिसके तहत प्रत्येक प्रभावित परिवार को शासन की गाइडलाइन के अनुसार राशि दी जाएगी बमीठा में 17 लोगों का अवार्ड 2020 में पारित किया गया इन लोगों को 2013 भूमि अधिग्रहण एक्ट के अनुसार ही मुआवजा राशि मिलनी चाहिए लेकिन 7 माह बीत जाने के बाद भी इन लोगों को भूमि एवं मकान की मुआवजा राशि आज तक नहीं मिली।

(रिपोर्टर- अशोक नामदेव बमीठा खजुराहो)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

प्रदेश में खाद की त्राहि-त्राहि, पर मुख्यमंत्री मौन?, बतायें कालाबाजारियों को संरक्षण दे रहा है कौन?: रवि सक्सेना

भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और वरिष्ठ प्रवक्ता रवि सक्सेना ने कहा मध्यप्रदेश के किसान इस समय...

कलेक्टर ने राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम की समीक्षा, टीबी मरीजों के बेहतर उपचार के लिए दिए निर्देश

छतरपुर जसं। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में शनिवार को राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम...

कमिश्नर कार्यालय में फरियादी ने खाया जहर, फंड और पेंशन का पैसा न मिलने से था परेशान, कमिश्नर से समस्या बताने के बाद खा...

कमिश्नर कार्यालय में फरियादी ने खाया जहर। उत्तरप्रदेश। बांदा जिले में फंड और पेंशन...

Recent Comments

%d bloggers like this: