Home खबरों की खबर अन्य खबरे शराब अड्डों पर हुई ताबड़तोड़ कार्यवाही: घाटीगांव, नयागांव, बेला की बावड़ी के...

शराब अड्डों पर हुई ताबड़तोड़ कार्यवाही: घाटीगांव, नयागांव, बेला की बावड़ी के जंगल मे महिलाएं बना रहीं थी शराब, लाखों का माल जब्त, गिरफ्तार कोई नहीं

कार्यवाही करती आबकारी विभाग की टीम

मध्यप्रदेश। प्रदेश में ग्वालियर और उसके आसपास के जंगलों में जहां कभी डकैतों की दहाड़ गूंजती थी वहां अब शराब माफियाओं की हलचल दिखाई देती है। जंगलों में जमीन के नीचे, टैंकों के अंदर पानी के बीच छुपाकर रखी गई लाखों की कच्ची शराब, गुड़ लहान व अन्य सामग्री आबकारी विभाग के अमले ने जब्त की है। यह कार्रवाई आबकारी अमले ने मंगलवार शाम जिले के घाटीगांव, नयागांव, बेला का बावड़ी के जंगल में की है। तीन स्थानों पर काफी मात्रा में महिलाएं शराब बना रहीं थी। पर आबकारी अमले के हाथ मौके से कोई भी आरोपी नहीं लगा है। अमले के वाहनों को देखकर शराब बना रहे लोग भाग गए।

पानी के टैंक के अंदर छुपाकर रखी थी शराब और गुड़ लहान

ग्वालियर में अवैध शराब के तीन अलग-अलग ठिकानों पर आबकारी विभाग ने छापामार कार्रवाई की है। जहां हजारों लीटर गुड़ लाहन मिला है। जिसे मौके पर ही आबकारी विभाग ने नष्ट कर दिया गया। वहीं 120 लीटर कच्ची शराब, 5 हाथ भट्‌टी और शराब बनाने का सामान जब्त किया गया है। दरअसल ग्वालियर आबकारी विभाग की टीम को मुखबिर के द्वारा सूचना मिली थी कि घाटीगांव, नयागांव और बेला की बावड़ी के पास जंगल में शराब माफिया अवैध कच्ची शराब का कारोबार कर रहे हैं।

सूचना मिलने पर आबकारी विभाग ने संभागीय उड़नदस्ता और जिला उड़नदस्ता टीम को तैयार कर तीनों अलग-अलग ठिकानों पर एक साथ छापामार कार्रवाई की। जहां टीम को देख शराब माफिया फरार हो गए, लेकिन इस कार्रवाई में 5700 लीटर गुड़ लाहन सीमेंट की टंकी में गड्ढों में भरा मिला। जिसे मौके पर ही नष्ट कर दिया गया। वही 120 लीटर अवैध कच्ची शराब गड्ढों में छुपाकर रखी थी जिसे आबकारी विभाग ने निकाल कर बरामद किया है। जिसकी कीमत 3 लाख से 5 लाख रुपए के बीच आंकी है। वहीं टीम को मौके पर जलती हुई 5 हाथ भट्टी मिली हैं। जिससे साफ है कि उनके पहुंचने से पहले वहां शराब बनाने का काम चल रहा था। फिलहाल फरार शराब माफियाओं के खिलाफ आबकारी विभाग की टीम ने अलग-अलग 8 FIR दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है।

बोर के अंदर छुपाकर रखी थी सफेद शराब, आबकारी ने वहां से भी निकाल ली

शहर में होनी थी सप्लाई-
तीन स्थानों पर जंगल में जो शराब बनाई जा रही थी यह शराब कोरोना कर्फ्यू में शहर और देहात इलाके में खपाई जानी थी। यह जहरीली शराब है और इसकी कोई जांच नहीं होती। ऐसी ही शराब से मुरैना में आधा सैकड़ा लोगों की जान चली गई थी।

जंगल में बड़े स्तर पर बन रही थी शराब-
सूचना मिली थी कि जंगल में बड़े स्तर पर देशी और कच्ची अवैध शराब बनाई जा रही है। इस पर आबकारी की जिला और उड़न दस्ते की टीम ने संयुक्त रूप से कार्रवाई लाखों का माल जब्त किया है। गुड लहान को वहीं नष्ट किया गया है। ​​​​​
मनीष द्विवेदी, प्रभारी उड़नदस्ता आबकारी ग्वालियर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पुलिस लाइन छतरपुर में मनाया गया पुलिस शहीद स्मृति दिवस

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले में आज 21 अक्टूबर को पुलिस स्मृति दिवस के उपलक्ष्य में पुलिस लाइन जिला...

आज समाज में अधिकाँश लोग भटकाव का जीवन जी रहे हैं। सत्य के मार्ग का लोगों क़ो पता ही नही है, ऐसे विपरीत समय...

डेस्क न्यूज। जब हम लोग अपने खेतों में ज्यादा पैदावार लेना चाहते हैं तो उसे ज्यादा उपजाऊ...

ब्रेकिंग न्यूज: बीजिंग में UN के कार्यक्रम में भारतीय राजदूत ने बोलना शुरू किया तो माइक बंद हुआ, वे चीन की परियोजना की आलोचना...

भारतीय राजदूत प्रियंका सोहोनी ने संयुक्त राष्ट्र की कॉन्फ्रेंस में चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव पर भारत की तरफ से...

बड़ी खबर: ड्रग्स केस में बॉलीवुड एक्ट्रेस अनन्या पांडे के घर NCB की रेड

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस अनन्या पांडे के घर NCB ने गुरुवार को छापेमारी की। रिपोर्ट्स के मुताबिक, क्रूज...

Recent Comments

%d bloggers like this: