Home खबरों की खबर अन्य खबरे शिवराज पर गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज हो: कांग्रेस, मरीज दवाई...

शिवराज पर गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज हो: कांग्रेस, मरीज दवाई और इंजेक्शन के लिए भटक रहे, मुख्यमंत्री को चिंता ही नहीं

कांग्रेस के नेताओं ने क्राइम ब्रांच भोपाल में शिवराज सिंह के खिलाफ शिकायत की

मध्यप्रदेश। कमलनाथ पर मामला दर्ज होने के बाद अब कांग्रेस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर हमला किया है। भोपाल के साथ प्रदेशभर में कांग्रेस ने पुलिस को ज्ञापन देकर शिवराज सिंह के खिलाफ शिकायत की है। भोपाल में कांग्रेस के पूर्व मंत्री और विधायकों ने सोमवार को क्राइम ब्रांच भोपाल में मुख्यमंत्री के खिलाफ शिकायत की। शिवराज सिंह पर धारा 304 के तहत गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज करनेे की मांग की गई।

एक दिन पहले ही प्रदेशभर में भाजपा कार्यकर्ताओं ने इंडियन कोरोना वाले बयान पर कमलनाथ के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की थी। इसके बाद देर रात कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई। दूसरे दिन भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर, सागर, उज्जैन, मुरैना, खंडवा, गुना समेत प्रदेश के अन्य जिलों में कांग्रेस एकजुट हो गई है। प्रदेशभर में कांग्रेसियों ने पुलिस को शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ शिकायत की है। साथ ही, कमलनाथ पर दर्ज केस वापस लेने की मांग की है। इंदौर में पूर्व मंत्री सज्जनसिंह वर्मा, जीतू पटवारी के नेतृत्व में एसपी से शिकायत की गई।

गुना में पूर्व मंत्री जयवर्द्धन सिंह ने एसपी को ज्ञापन दिया।

शिकायत में कहा गया है- आम लोगों से सच छिपाया जा रहा है। वर्ष 2021 के प्रारंभिक दौर में जैसे ही कोरोना की दूसरी लहर ने प्रदेश में पैर पसारना शुरू किए थे। शुरुआती दौर में स्थिति इतनी भयावह नहीं थी। दूसरी लहर आने के बाद शिवराज उपेक्षापूर्ण व्यवहार करते रहे हैं।

उनके इशारे पर कोरोना पीड़ितों की संख्या को छिपाया गया है। यहां तक कि श्मशान घाट व कब्रिस्तानों में हुए दाह संस्कारों की संख्या हजारों में रही, लेकिन इसे छिपाया जा रहा है। लोगों से सच छिपाने के लिए शिवराज के ऊपर धारा 304 के तहत गैर इरादतन हत्या का प्रकरण दर्ज किया जाना चाहिए।

इलाज की भी नहीं की व्यवस्था-
प्रदेश में इलाज की समुचित व्यवस्था नहीं की गई है। भोपाल में ब्लैक फंगस के सैंकड़ों मरीज दवाई और इंजेक्शन के लिए मारे-मारे फिर रहे हैं और कईं लोगों की मौत हो चुकी है। जिसके लिए सीधे-सीधे शिवराज जिम्मेदार हैं। समाचार पत्रों, सोशल मीडिया और वैज्ञानिकों द्वारा बराबर संदेश दिए जा रहे थे कि स्थिति भयानक होने वाली है, परंतु मुख्यमंत्री ने अपनी हट धर्मिता के चलते किसी भी तरह की पर्याप्त व्यवस्था नहीं की। लगातार कोरोना से हुई मौतों के आंकड़ों को प्रदेश वासियों से छिपाते रहे फलस्वरूप मध्यप्रदेश में कोरोना से होने वाली मृत्यु का तांडव पूरे प्रदेश में बढ़ता गया।

ग्वालियर में कांग्रेसियों ने शांतिपूर्ण धरना दिया।

शिवराज ने कोरोना को गंभीरता से नहीं लिया-
शिवराज ने इस कोविड काल को गंभीरता से नहीं लिया। इसी कारण कोविड से पीड़ित मरीजों को अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन, इंजेक्शन नहीं मिल पाया। इस खराब स्वास्थ्य व्यवस्था के कारण मौतों का आंकड़ा बढ़ता गया और सरकार आकड़ों को छिपाती रही। जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने के लिए मुख्यमंत्री दोषी हैं। इन पर गैर इरादतन हत्या का प्रकरण दर्ज होना चाहिए।

गुना में पूर्व मंत्री व राघौगढ़ विधायक जयवर्धन सिंह के साथ कुछ कांग्रेसियों ने एसपी ऑफिस पहुंचकर एसपी को आवेदन दिया। इसमें सीएम, स्वास्थ्य मंत्री व जिले के कोविड प्रभारी मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया पर एफआईआर की मांग की है। वही ग्वालियर में युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष हैवरन कंसाना के नेतृत्व में 1 घंटे तक शांतिपूर्ण धरना दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

थाना अलीपुरा पुलिस द्वारा अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह का पर्दाफाश

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले में पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के निर्देशन तथा एसडीओपी नौगांव के मार्गदर्शन में...

कट्टा लेकर घूम रहा यूवक पकड़ाया, सिविल लाइन पुलिस की कार्यवाही

मध्यप्रदेश। छतरपुर पुलिस अधीक्षक एवं अति. पुलिस अधीक्षक के निर्देशन मे एवं श्रीमान नगर पुलिस अधिक्षक के...

मासूम को कुचलने वाले ड्राइवर को नौकरी से निकाला

मध्यप्रदेश। ग्वालियर नगर निगम की कचरा गाड़ी से दो साल की बच्ची को कुचलने के मामले पर...

Recent Comments

%d bloggers like this: