Home खबरों की खबर अन्य खबरे स्मार्ट क्लासेस के संचालन के लिए प्राचार्यों का जिला स्तर प्रशिक्षण पहले...

स्मार्ट क्लासेस के संचालन के लिए प्राचार्यों का जिला स्तर प्रशिक्षण पहले खुद सीखे, दक्ष बने फिर छात्रों को सिखाए, ह्रूूूमन स्किल रिर्सोस के विस्तार में शिक्षकों की महर्ती भूमिका शिक्षक सबसे पहले अपनत्व की भावना जागृत करे

छतरपुर ज.सं। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह ने जिले में स्मार्ट क्लासेस के संचालन के लिए के लिए उत्कृष्ट विद्यालय क्रमांक 01 में बुधवार को आयोजित प्राचार्यों के जिला स्तरीय प्रशिक्षण में कहा कि शिक्षक पहले खुद सीखे, दक्ष बने फिर छात्रों को सिखाए। उन्होंने कहा कि ह्रूमन स्किल रिर्सोस के विस्तार में शिक्षकों की महर्ती भूमिका है। शिक्षक सबसे पहले अपनत्व की भावना जागृत करे। शासकीय शालाओं के शिक्षक दक्षता एवं योग्यता में किसी से कम नही है। वह हर स्थिति में गुणोत्तर शिक्षा में अपना सर्वस्व दे सकते है। स्मार्ट क्लासेस के लिए जो संसाधन उपलब्ध कराये गये उनका बेहतर उपयोग करते हुये छात्रों का भविष्य सवारे।

वर्तमान समय विज्ञान एवं तकनीकी शिक्षा का प्रधान समय है। इस समय की आधुनिक पद्धति को सीखने के लिए संकोच और डर को दूर रखे। जब तक हम खुद नही सीखेगे, तब तक अच्छे शिक्षक नही कहलाएंगे, इसीलिए खुद को दक्ष बनाए। स्मार्ट क्लासेस को ऑपरेट करने की विद्या सीखे और इसके उपयोग छात्रों के ज्ञान की जिज्ञासा का समाधान करे। प्रशिक्षण में शिक्षा अधिकारी श्री शर्मा सहित जिले भर के हाई स्कूल एंव हायर सेकेण्डरी के प्राचार्य सहित स्मार्ट क्लासेस संचालन के मास्टर ट्रेनर भी उपस्थित थे।

कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि प्रदेश के केवल छतरपुर जिले में नीति आयोग की मदद से 106 स्मार्ट क्लासेस की सुविधा मुहैया हो चुकी है। जिले को साक्षरता के क्षेत्र में ऊंचा उठाने में प्रदेश के साथ-साथ देश में भी ख्याति दिलाने में शिक्षकों की सार्थक भूमिका होगी। शिक्षकगण सामाजिक हित में छात्रों में स्मार्ट क्लासेस के माध्यम से शैक्षणिक स्तर सुधारे। उन्होंने कहा कि शिक्षक आत्म अवलोकन करे कि छात्रों में कैसे सार्थक शिक्षा का विस्तार हो। कैसे उनकी जिदंगी सवारी जाये और शिक्षा के क्षेत्र में छतरपुर जिले का नाम विख्यात करने के लिए जिम्मेदारी से दायित्व निभाएं। जिससे छात्रों की बोद्धिक तरक्की का मार्ग प्रशस्त हो। एक शिक्षक ही छात्र के जीवन का भाग्य बदलने में सक्षम है। शिक्षा अधिकारी श्री शर्मा प्रशिक्षण की महत्ता पर प्रकाश डालते हुये भरोसा दिलाया कि शिक्षक परिवार स्मार्ट क्लासेस के उद्देश्य को सार्थक करने में कोई कसर नही छोड़ेगे और जिले के छात्रों में नया आत्मविश्वास जगाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बढ़ती महंगाई को लेकर महिला कांग्रेस ने छत्रसाल चौक कांग्रेस कार्यालय के बाहर बैठकर पहले सेकी रोटी,घरेलू गैस सिलेंडर पर पहनाई माला, फिर रोटी...

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिला मुख्यालय पर महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुषमा देवी के निर्देश पर महिला कांग्रेस...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की गोद ली हुई 3 बेटियों की शादी आज, शिवराज सिंह चौहान पत्नी साधना सिंह के साथ करेंगे कन्यादान

तीनों दत्तक बेटियों के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी पत्नी साधना सिंह।

प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी ने बाराणसी में कहा- कोरोना की दूसरी लहर को UP ने जिस तरह संभाला वह अभूतपूर्व है

उत्तरप्रदेश। वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज काशी में हैं। यहां उन्होंने जापान और भारत की दोस्ती...

Recent Comments

%d bloggers like this: