Home शक्ति न्यूज़ खास क्रोध करना(गुस्सा होना) और चरित्र हीनता दोनों ही मनुष्य के लिए आत्मघाती...

क्रोध करना(गुस्सा होना) और चरित्र हीनता दोनों ही मनुष्य के लिए आत्मघाती कदम हैं, इनसे व्यक्ति का स्वयं का ही नुकसान होता है, इनसे सदैव बचने का प्रयास करना चाहिए, माँ-गुरुवर की नियमित साधना द्वारा इन पर नियन्त्रण पाया जा सकता है

डेस्क न्यूज। कभी-कभी व्यक्ति क़ो पता नही चल पाता है कि किस कारण से हमारा नुकसान हो रहा है। व्यक्ति अपने साथ हो रहे गलत कार्यों के लिए दूसरों क़ो दोषी ठहराता है, जबकि इसके लिए वो स्वयं जिम्मेदार होता है। मनुष्य की सहज प्रवृत्ति है की उसको अपनी खुद की गलतियों का कभी भी एहसास नही होता है। वो हमेशा यही बोलता है की उसने हमारा य़े नुकसान कर दिया। प्रत्येक व्यक्ति क़ो अपने जीवन में आत्मनिरीक्षण जरूर करना चाहिए कि हमारे साथ ऐसा क्यूँ हुआ।

जब हम आत्म अवलोकन करेंगे तो हमारी गलती का पता चल जाएगा जिसकी वजह से य़े हुआ।क्रोध करना ही है तो अपनी बुरी आदतों पर क्रोध करिए,जिसकी वजह से हम बुरी स्थिति क़ो प्राप्त हुए। गुरुदेव जी ने कहा है की हमें प्रतिदिन अपने द्वारा किए हुए कार्यो की समीक्षा करते रहना चाहिए, क्या हमने किसी क़ो गलत तो नही बोल दिया अगर गलती से बोल दिया तो तत्काल क्षमा माँग लेने में कोई हर्ज नही होना चाहिए। किसी के ऊपर अगर हमने अनायास ही क्रोध कर दिया तो कितने दिनों तक उस व्यक्ति का मूड खराब रहता है, शायद हम कभी भी महसूस नही कर पाते हैं।

व्यथित व्यक्ति के दिल से कभी भी बद्दुआ ही निकलेगी। किसी की दुआ लेना बहुत अच्छी बात होती है परन्तु बद्दुआ किसी ना किसी रूप से हमारा नुकसान जरूर करती है। कई लोग चरित्र हीनता क़ो बड़े सामान्य रूप से लेकर जीवन यापन करते हैं, पर गुरुदेव जी ने तीसरे सँकल्प के रूप में स्पष्ट शब्दों में उल्लेख किया है की हम स्वयं चरित्रवान जीवन जीएं और दूसरों क़ो भी चरित्रवान जीवन जीने के लिए प्रेरित करते रहें। चाहे हमें कोई देखे या ना देखे पर माँ गुरुवर से कुछ भी छिपा नही है। हमें अपने प्रत्येक कर्मों का फलअवश्य मिलता है। जीवन में अगर सफल होना है और कामयाब होना है तो गुरुदेव जी द्वारा निर्देशित मार्ग का अक्षरशः पालन करना ही होगा। जरा सा भी लापरवाही से हमारे कई काम खराब हो जाएँगे।

गुरुदेव जी ने सभी मनुष्यों क़ो संयमित जीवन जीने के लिए कहा है। सदैव प्रयास करें की हमारे किसी भी बात से कोई भी आहत (दुःखी) ना हों। जब भी किसी से बात करें तो चेहरे पर मुस्कुराहट होनी चाहिए। किसी से भी रूखेपन से कोई भी बात ना करें। हमारी मुस्कुराहट से परिवार के सदस्यों क़ो सदैव खुशी मिलती है। सारे दिन से परिवार के पत्येक सदस्य हमारी प्रतीक्षा करते हैं और हम हैं की पहुंचते ही कोई अनर्गल बात बोल देते हैं। जब भी घर पहुँचे शुरुआत हँसी मजाक से होनी चाहिए।

किसी ने क्या खूब कहा है कि मन्दिर मस्जिद बाद मे चले जाइएगा पहले किसी रोते हुए बच्चे क़ो चलिए हँसाया जाए। घर मे सदैव हँसी खुशी का माहौल बना रहना चाहिए। कई लोग हमेशा मनहूस चेहरा लेकर घर मे घूमते रहते हैं। अत्यधिक क्लेश से घर की प्रगति बाधित हो जाती है। घर के प्रत्येक सदस्यों के प्रति आदर का भाव होना चाहिए। छोटी- छोटी बातों क़ो नजरंदाज कर देना चाहिए। घर के प्रत्येक गतिविधियों मे हस्तक्षेप नही करना चाहिए। कई लोगों क़ो दिन भर डाँटना बहुत पसन्द होता है। जब भी बोलिए अच्छा बोलिए। छोटी- छोटी बातों का बुरा मत मानिए। परिवार के सदस्यों से गलतियाँ तो होंगी ही, उन गलतियों क़ो कभी बड़ा मत बनाइए।

शान्त भाव से उनका निराकरण कर दीजिए। घर में ज्यादा झगड़ा होना कत्तई अच्छा नही होता है। कई लोग सोचते होंगे की हम नही चाहते की घर में कोई बवाल हो पर ना चाहते भी हो जाता है। ऐसे में हम लोग नियमित माँ गुरुवर की साधना आराधना करें, देखेंगे कि धीरे धीरे घर में शान्ति कायम होने लग जाएगी।जिस घर में शान्ति होती है उस घर में सुख समृद्धि का वास होता है। हम लोग दुनिया भर की बातें करते हैं पर अपने घर की शान्ति क़ो इग्नोर करते रहते हैं।अपने स्वयं के घर में शान्ति रहेगी तभी हम सुखी जीवन जी पाएंगे।

जै माता की जै गुरुवर की

लेखक- शिव बहादुर सिंह फरीदाबाद (हरियाणा)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रोडवेज बस से कुचले बच्चे की मौत, सड़क पर शव ऱखकर जमकर काटा हंगामा

उत्तरप्रदेश। हमीरपुर जिले में बीते रविवार को सदर कोतवाली क्षेत्र के बस स्टैंड में कुरारा की ओर...

कोविड-19 वैक्सीन महाअभियान गढ़ीमलहरा में निकली रैली

छतरपुर ज.सं। कोरोना संक्रमण से बचाव एवं कोविड-19 संक्रमण के वैक्सीनेशन के प्रति लोगो को लोगो को...

एक संक्रमित हुआ डिस्चार्ज

छतरपुर ज.सं। छतरपुर जिले में शनिवार को 01 कोविड संक्रमित मरीज को खजुराहो कोविड केयर सेंटर से...

प्राचार्य ने टीकाकरण कराने की अपील की

छतरपुर ज.सं। शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय क्रमांक-1 छतरपुर के प्राचार्य एस.के. उपाध्याय ने छात्रों, उनके माता-पिता सहित जिले...

Recent Comments

%d bloggers like this: