Home खबरों की खबर फैक्टरी संचालक ने मानवता को किया शर्मसार, काम करने तमिलनाडु गई थी...

फैक्टरी संचालक ने मानवता को किया शर्मसार, काम करने तमिलनाडु गई थी युवती कर ली खुदकुशी, शव भेजने तीन लाख मांगे

जशपुर एजेंसी। भाई की सड़क हादसे में मौत के बाद परिवार वालो पर कर्ज बढ़ता गया। ऐसे में परिवार को कर्जमुक्त करने के लिए तमिलनाडू कमाने गई युवती ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। युवती के इस कदम से पूरा परिवार सदमे में हैं,वहीं जिस फैक्ट्री में काम करने के लिए गई थी, उसके संचालक ने युवती के शव को गांव भेजने के लिए परिवार से तीन लाख रुपए की मांग कर दी।

शव भेजने के एवज में पैसे की मांग तपकरा पुलिस तक पहुंची तो उसने मामले में हस्ताक्षेप करते हुए युवती के शव को गांव लाने में सहायता की।  लवाकेरा के वार्ड क्रमांक 16 निवासी लक्ष्मी चौहान के भाई की सड़क हादसे में मौत हो गई थी। भाई की मौत होने के बाद परिवार पर कर्ज चढ़ता गया। अपने परिवार को कर्ज में डूबे हुए देखकर लक्ष्मी ने परिवार को कर्जमुक्त करने के उद्देश्य से काम की तलाश शुरू की और 1 मार्च को गांव की ही एक पहचान की महिला के साथ अगरबत्ती फैक्ट्री में काम करने तमिलनाडु चली गई।

तमिलनाडु में उसे काम मिल गया। इस बीच पूरे देश में लॉकडाउन लागू हो गया, लेकिन उसकी फैक्ट्री में काम बंद नही हुआ। इसलिए वह लॉकडाउन के दौरान भी नहीं लौटी और फैक्ट्री में मज़दूरी करती रही। इस बीच लक्ष्मी बराबर परिवारवालों से फोन पर बातचीत करती रही। गुरुवार को भी लक्ष्मी ने भाभी से फोन से बातचीत की थी। 


बातचीत के दौरान लक्ष्मी ने भाभी को बताया था कि सब कुछ ठीक है और वह अच्छे से है, लेकिन अगले ही दिन शुक्रवार की रात को लक्ष्मी की मौत की खबर आ गई। जिस फैक्ट्री में वह काम करती थी वहां से घरवालो को फोन कर बताया गया कि लक्ष्मी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। इस खबर को सुनते ही परिवार के लोग सदमे में आ गए।

लक्ष्मी के परिजनों के सामने सबसे बड़ी समस्या यह थी कि लक्ष्मी का अंतिम संस्कार कहां और कैसे किया जाए। मृतिका जिस फैक्ट्री में काम करती थी, उसके संचालक ने लॉकडाउन का हवाला देकर शव को उसके गांव भिजवाने को मना कर दिया, लेकिन आखिर में उन्होंने शव को गांव भेजवाने के एवज में परिजन से 3 लाख रुपए की मांग कर दी।


पुलिस ने दबाव बनाया तो माना संचालक-


पैसे की डिमांड का पता चलने पर थाना प्रभारी वीएन शर्मा ने फैक्ट्री संचालक को साफ-साफ कहा कि अगर उनके द्वारा उनके खर्च पर शव नहीं भिजवाया जाएगा और मृतका के वेतन सहित मुआवजा नहीं दिया तो फैक्ट्री संचालक के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी। तपकरा पुलिस का दबाव काम आया और फैक्ट्री वाले आखिरकार लक्ष्मी के शव को अपने खर्चे पर भिजवाने को तैयार हो गए।

मृतिका लक्ष्मी के भाई चमरू चौहान ने बताया कि सोमवार की रात तक शव गांव पहुंच जाएगा। थाना प्रभारी बी एन शर्मा ने बताया कि फैक्ट्री संचालक को मृतिका के कमाए रुपए और असामयिक मौत की मुआवजा राशि देने को कहा गया है ।


युवती का पहुंचा शव-


तमिलनाडु में युवती द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने और फैक्ट्री संचालक द्वारा शव भेजने के नाम पर तीन लाख रुपए की मांगने की सूचना मिली तो संबंधित थाना एवं फैक्ट्री संचालक से बात कर शव को गांव भेजने के लिए कहा। संचालक को परिजन को युवती का वेतन मुआवजा सहित देने कहा है। शव उसके गांव पहुंच गया है।”


-व्हीएन शर्मा,थाना प्रभारी तपकरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

मृतक महिला के परिजनों ने लगाए हत्या के आरोप,छत्रसाल चौक पर परिजनों ने किया चक्का जाम, पुलिस की समझाइश के बाद खोला गया जाम

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिला मुख्यालय पर मृतक महिला की मां निर्मला कोरी ने आरोप लगाते हुए कहा है...

प्रदेश में खाद की त्राहि-त्राहि, पर मुख्यमंत्री मौन?, बतायें कालाबाजारियों को संरक्षण दे रहा है कौन?: रवि सक्सेना

भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और वरिष्ठ प्रवक्ता रवि सक्सेना ने कहा मध्यप्रदेश के किसान इस समय...

कलेक्टर ने राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम की समीक्षा, टीबी मरीजों के बेहतर उपचार के लिए दिए निर्देश

छतरपुर जसं। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में शनिवार को राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम...

कमिश्नर कार्यालय में फरियादी ने खाया जहर, फंड और पेंशन का पैसा न मिलने से था परेशान, कमिश्नर से समस्या बताने के बाद खा...

कमिश्नर कार्यालय में फरियादी ने खाया जहर। उत्तरप्रदेश। बांदा जिले में फंड और पेंशन...

Recent Comments

%d bloggers like this: