Home उत्तरप्रदेश जले हुए शवों की जूतों से हुई शिनाख्त, 5 दिन से लापता...

जले हुए शवों की जूतों से हुई शिनाख्त, 5 दिन से लापता थे दोनों, परिजन FIR कराने गए थे तो कोतवाली प्रभारी ने दुत्कार कर भगाया

उत्तरप्रदेश। जालौन में मामा-भांजे की हत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। मंगलवार को जंगल में दोनों के जले हुए शव मिले हैं। परिजनों ने कपड़ों और जूतों से शव की शिनाख्त की। दोनों 5 दिन पहले यानी 29 अप्रैल से लापता थे। गुमशुदगी की शिकायत करने परिजन ऊरई कोतवाली गए तो वहां प्रभारी ने उन्हें दुत्कार के भागा दिया। परिजनों ने इस पूरे मामले में पुलिस पर लापरवाही बरतने के गंभीर आरोप लगाए हैं।

परिजनों ने नामजद दी थी तहरीर


यह पूरा मामला उरई कोतवाली के कांशीराम कालोनी का है। यहां रहने वाला 25 साल का राशिद और उसका इंद्रा नगर निवासी मामा नसीम 29 अप्रैल को संदिग्ध हालात में लापता हो गए थे। परिजनों ने दोनों को खोजने का प्रयास किया। लेकिन उनका कहीं पता नहीं लगा। इस पर लापता होने की जानकारी उसके परिजनों ने उरई कोतवाली जाकर दी। साथ ही इंदिरा नगर के रहने वाले रफीक एवं अनीश पर अगवा करने का आरोप लगाते हुई नामजद तहरीर दी।

लेकिन उरई कोतवाली के प्रभारी विनोद पांडेय ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। उल्टा युवकों के लापता होने पर परिजनों पर ही आरोप लगाते हुए उन्हें दुत्कार कर कोतवाली से भगा दिया। इसके बाद व राशिद व नसीम के परिजन उरई कोतवाली और पुलिस के अधिकारियों के चक्कर लगाते रहे पर पुलिस ने सुनवाई नही की।

CM से लगाई गुहार, तब हरकत में आई पुलिस-


परेशान परिवार वालों ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर मामले की शिकायत की। जिसके बाद पुलिस एक्टिव हुई और मामले को गंभीरता से लेते हुए नामजद लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। इस दौरान आरोपी टूट गए और उनकी निशान देही पर पुलिस सिरसा कलार क्षेत्र के जंगलों में पहुंची। जहां दो जली हुई लाश बरामद की। जब परिजनों से पुलिस ने जले हुए शवों की शिनाख्त कराई तो वह मामा भांजे के शव निकले। इनकी शिनाख्त जूतों व कपड़े से हो सकी। हालांकि आरोपियों ने हत्या कर शव को जलाया है या नहीं? इसका खुलासा अभी पुलिस ने नहीं किया है। इसके अलावा हत्या के कारणों का भी अभी पता नहीं चला है।

पहले पकड़ पुलिस करती सख्ती तो नहीं जाती जान-


इसके बाद से पुलिस पर लापरवाही के आरोप लग रहे हैं। परिजनों का कहना है कि यदि पुलिस ने शिकायत के दिन ही आरोपियों को पकड़ लिया होता, तो उनके भाई और बेटे की हत्या न हुई होती। फिलहाल इस मामले में पुलिस ने चुप्पी साध रखी है कोई भी पुलिस अधिकारी कुछ भी बोलने से कतरा रहा है।

(उरई से ब्यूरो अभिषेक गुप्ता की रिपोर्ट)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

माता- पिता के अत्यधिक लाड़-प्यार के कारण बच्चे अनुशासन हीनता के शिकार हो जाते हैं, प्रारम्भिक दौर से ही उचित सँस्कार और सख्ती के...

डेस्क न्यूज। आज अधिकाँश अभिभावक की मुख्य समस्या है कि हमारा बच्चा हमारी बात नही मानता और...

तेज रफ्तार बाइक अनियंत्रित होकर पेड़ से टकराई, बाइक सवार की मौत, ससुराल जा रहा था युवक

तेज रफ्तार बाइक अनियंत्रित होकर सड़क किनारे स्थित पेड़ से जा टकराई, जिसके चलते बाइक सवार युवक की मौके ही मौत...

लोक निर्माण विभाग में हुए भ्रष्टाचार की होगी जांच, लोक निर्माण राज्यमंत्री सुरेश धाकड़ ने दिए जांच के आदेश

लोक निर्माण राज्यमंत्री ने जांच के दिए आदेश मध्यप्रदेश। टीकमगढ़ जिले में 28 मई...

रोडवेज बस से कुचले बच्चे की मौत, सड़क पर शव ऱखकर जमकर काटा हंगामा

उत्तरप्रदेश। हमीरपुर जिले में बीते रविवार को सदर कोतवाली क्षेत्र के बस स्टैंड में कुरारा की ओर...

Recent Comments

%d bloggers like this: