Home शक्ति न्यूज़ खास जीवन शैली में परिवर्तन किये बिना हम लक्ष्य क़ी प्राप्ति कैसे कर...

जीवन शैली में परिवर्तन किये बिना हम लक्ष्य क़ी प्राप्ति कैसे कर पाएँगे? दैनिक क्रियाओं में व्यापक बदलाव करते रहना बहुत जरूरी है

लेखक- शिव बहादुर सिंह फरीदाबाद (हरियाणा)

डेस्क न्यूज। आराम तलबी क़ी आदत ने हमें धीरे-धीरे बीमारी क़ी तरफ धकेल दिया है। पहले के लोग़ शारीरिक श्रम इतना करते थे क़ी छोटी-मोटी बीमारी पास भी फटकती नही थी।बच्चों में खेल के प्रति जागरूकता थी। क्रिकेट से लेकर सभी खेलों में बच्चे औऱ बड़े सभी खूब रुचि दिखाते थे। पैदल चलने क़ी भी आदत थी। आधुनिक जीवन क़ी लत ने हमें धीरे धीरे निष्क्रिय कर दिया। खेलों का स्थान मोबाइल ने ले लिया।

कंप्यूटर से जुड़े रहना भी हमारे लिए घातक हो गया। अधिकाँश युवक औऱ युवतियाँ ज्यादातर मोबाइल औऱ कंप्यूटर में ही अपना समय व्यतीत करते हैं। काम करना जरूरी तो है पर स्वास्थ्य का देखभाल भी उतना ही जरूरी है। जब हम लोग़ चौबीस घंटों में 16-18घंटे मोबाइल औऱ कम्पूटर क़ो देंगे तो थोड़े समय बाद कोई ना कोई बीमारी हमें जरूर घेर लेगी।

शूगर औऱ बी. पी. क़ी समस्या का प्रमुख कारण आराम तलबी ही है। जितना ज्यादा हम अपने शरीर क़ो आराम देंगे, उतना ज्यादा हम बीमारी क़ो निमन्त्रण देंगे।शरीर क़ो शारीरिक श्रम कराना भी अत्यन्त आवश्यक है। किसी ना किसी खेल या योग आदि में अपने क़ो जरूर शामिल कीजिए।प्रतिदिन टहलने का भी नियम बनाइए। हमने स्वयं भी अनुभव किया है क़ी जब हम स्वस्थ होते हैं तो हमारी कार्य क्षमता दुगुना हो जाती है।

सुबह सूर्योदय से पहले उठने क़ी आदत डालना चाहिए। आजकल लोगों में देर रात तक जागने क़ी प्रवृत्ति हो गयी है, जल्दी सोने के नियम का भी पालन करना चाहिए। गुरुदेव जी ने अपने चिँतनो में कहा है क़ी जल्दी जगने औऱ जल्दी सोने का क्रम जरूर बनाएं। थोड़ा पैदल चलकर सामान वगैरह खरीदने क़ी आदत डालें।

बच्चों क़ो खेलों के प्रति जागरूक करें।खेलने से कई प्रकार के लाभ मिलते हैं। आश्रम के स्थापना दिवस (23जनवरी)वाले दिन प्रतिवर्ष खेलों क़ी प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है।विजयी प्रतियोगियों क़ो पुरस्कृत भी किया जाता है। जैसे-जैसे हम अपने जीवन में बदलाव करेंगे वैसे-वैसे हम शान्ति क़ी ओर अग्रसर होते जाते हैं। स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन का निवास होता है। स्वस्थ शरीर से ही साधना होती है। जितना अधिक चैतन्य हम होंगे उतना ही अधिक साधना का लाभ हमें मिलेगा।दिनचर्या में बदलाव किये बिना हम स्वस्थ नही रह सकते हैं।

जै माता क़ी जै गुरुवर क़ी

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

थाना अलीपुरा पुलिस द्वारा अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह का पर्दाफाश

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले में पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के निर्देशन तथा एसडीओपी नौगांव के मार्गदर्शन में...

कट्टा लेकर घूम रहा यूवक पकड़ाया, सिविल लाइन पुलिस की कार्यवाही

मध्यप्रदेश। छतरपुर पुलिस अधीक्षक एवं अति. पुलिस अधीक्षक के निर्देशन मे एवं श्रीमान नगर पुलिस अधिक्षक के...

मासूम को कुचलने वाले ड्राइवर को नौकरी से निकाला

मध्यप्रदेश। ग्वालियर नगर निगम की कचरा गाड़ी से दो साल की बच्ची को कुचलने के मामले पर...

Recent Comments

%d bloggers like this: