Home अंतरराष्ट्रीय यूएन में मोदी का संबोधन: आर्थिक परिषद के सत्र में प्रधानमंत्री मोदी...

यूएन में मोदी का संबोधन: आर्थिक परिषद के सत्र में प्रधानमंत्री मोदी का वर्चुअल भाषण होगा, इसमें कोरोना से जुड़ी चुनौतियों से निपटने पर चर्चा होगी

यूएन में मोदी का संबोधन: आर्थिक परिषद के सत्र में प्रधानमंत्री मोदी का वर्चुअल भाषण होगा, इसमें कोरोना से जुड़ी चुनौतियों से निपटने पर चर्चा होगीनई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के सत्र को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करेंगे। यह सत्र संयुक्त राष्ट्र के 75 वीं सालगिरह पर होगा।

इसमें कोरोना से जुड़ी मौजूदा चुनौतियों से निपटने पर चर्चा होगी। इस साल जून में भारत यूएन के सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) का अस्थाई सदस्य चुना गया था। इसके बाद यह पहला मौका है जब मोदी ऐसे किसी कार्यक्रम में अपनी बात रखेंगे। इसमें नॉर्वे की प्रधानमंत्री एर्ना सोलबर्ग और यूएन के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस भी शामिल होंगे। 


यूएन के आर्थिक और सामाजिक परिषद( यूएन ईसीओएसओसी) की ओर से हर साल यह सत्र आयोजित होता है। इसमें वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों के साथ ही निजी क्षेत्र, सिविक सोसाइटी और शिक्षा क्षेत्र के प्रतिनिधि शामिल होंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने इससे पहले 2016 में इस परिषद की 70वीं सालगरिह पर भी भाषण दिया था।


मोदी ने 15 जुलाई को ईयू शिखर सम्मेलन को संबोधित किया था


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 जुलाई को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भारत-यूरोपीय संघ (ईयू) शिखर सम्मेलन 2020 को संबोधित किया। इसमें उन्होंने कोरोना के बाद सामने आई आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए  दुनिया के सभी लोकतांत्रिक देशों से साथ आने की अपील की थी। उन्होंने भारत-यूरोपीय संघ के संबंध और मजबूत करने पर जोर दिया था। महामारी की वजह से मार्च में भारत-यूरोपीय संघ शिखर सम्मेलन रद्द करना पड़ा था। यह अच्छी बात है कि आज हम वर्चुअल माध्यम से एक साथ आए।


जून में भारत यूएन की सुरक्षा परिषद का अस्थाई सदस्य चुना गया था-


भारत जून में 8 साल में 8वीं बार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का अस्थाई सदस्य चुना गया था। वोटिंग में महासभा के 193 देशों ने हिस्सा लिया था। इनमें से 184 देशों ने भारत का समर्थन किया था।भारत के साथ आयरलैंड, मैक्सिको और नॉर्वे भी अस्थाई सदस्य चुने गए थे। फिलहाल भारत दो साल के लिए यूएन का अस्थाई सदस्य  है।  इसके पहले 1950-51, 1967-68, 1972-73, 1977-78, 1984-85, 1991-92 और 2011-12 में भारत यह जिम्मेदारी निभा चुका है।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पुलिस लाइन छतरपुर में मनाया गया पुलिस शहीद स्मृति दिवस

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले में आज 21 अक्टूबर को पुलिस स्मृति दिवस के उपलक्ष्य में पुलिस लाइन जिला...

आज समाज में अधिकाँश लोग भटकाव का जीवन जी रहे हैं। सत्य के मार्ग का लोगों क़ो पता ही नही है, ऐसे विपरीत समय...

डेस्क न्यूज। जब हम लोग अपने खेतों में ज्यादा पैदावार लेना चाहते हैं तो उसे ज्यादा उपजाऊ...

ब्रेकिंग न्यूज: बीजिंग में UN के कार्यक्रम में भारतीय राजदूत ने बोलना शुरू किया तो माइक बंद हुआ, वे चीन की परियोजना की आलोचना...

भारतीय राजदूत प्रियंका सोहोनी ने संयुक्त राष्ट्र की कॉन्फ्रेंस में चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव पर भारत की तरफ से...

बड़ी खबर: ड्रग्स केस में बॉलीवुड एक्ट्रेस अनन्या पांडे के घर NCB की रेड

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस अनन्या पांडे के घर NCB ने गुरुवार को छापेमारी की। रिपोर्ट्स के मुताबिक, क्रूज...

Recent Comments

%d bloggers like this: