Home उत्तरप्रदेश मानसून से पहले मच्छरों पर वार की तैयारी, स्वास्थ्य विभाग का मच्छजनित...

मानसून से पहले मच्छरों पर वार की तैयारी, स्वास्थ्य विभाग का मच्छजनित रोगों पर जागरूकता अभियान, 892 टीमों के साथ गांव-गांव जनजागरूकता की मुहिम शुरू

उत्तरप्रदेश। हमीरपुर जिले में मानसून के दस्तक देने से पूर्व ही मलेरिया विभाग ने मच्छरजनित रोगों पर लगाम लगाने को लेकर अभियान शुरू कर दिया है। गांव-गांव स्वास्थ्य विभाग की टीमें कोरोना के साथ-साथ लोगों को मलेरिया, डेंगू और फाइलेरिया से बचाव के प्रति जागरूक कर रही हैं। प्रचार सामग्री भी बांटी जा रही है। पूरे जून माह यह अभियान चलेगा।

इस अभियान को सफल बनाने की शपथ लेकर स्वास्थ्य कर्मी इस वक्त फील्ड में जुटे हुए हैं।
इस वक्त कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर लगाम लगी है। लिहाजा स्वास्थ्य विभाग ने अन्य कार्यक्रमों को धीरे-धीरे शुरू कर दिया है। अमूमन 15 जून से मानसून के दस्तक देने के साथ ही मच्छरजनित रोगों की संख्या में बढ़ोत्तरी होने लगती है। खासतौर से मलेरिया और डेंगू बुखार तेजी से पांव पसारता है। इसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने कोविड सर्वे के साथ-साथ मच्छरजनित रोगों पर प्रभावी लगाम लगाने को लेकर अभियान शुरू किया है, जो कि पूरे जून माह चलेगा।

जिला मलेरिया अधिकारी आरके यादव ने बताया कि इस अभियान में सभी आशा कार्यकर्ताओं, आंगनबाड़ी और एएनएम को लगाया गया है। प्रतिदिन 892 टीमें गांवों में भ्रमण कर ग्रामीणों को कोरोना के साथ-साथ मच्छरों से होने वाली बीमारियों के प्रति आगाह कर रही हैं। वॉल पेंटिंग भी कराई जा रही है। जलभराव वाले स्थानों पर दवा का छिड़काव और ‘हर रविवार मच्छर पर वार’ जैसे कार्यक्रमों को चलाकर लोगों को साफ-सफाई के प्रति जागरूक किया जा रहा है। बुखार वाले मरीजों को निकटवर्ती स्वास्थ्य केंद्रों पर जांच कराने की सलाह दी जा रही है। मलेरिया ग्रसित रोगियों का नि:शुल्क इलाज मुहैया कराया जाएगा। जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि जनवरी 2021 से अब तक जनपद में 16539 लोगों के रक्त के नमूने लेकर जांच की गई है, जिसमें 14 में मलेरिया की पुष्टि हुई है।

10 से 12 दिन तक प्रभावित करता है मलेरिया –


जिला अस्पताल के फिजीशियन डॉ.आरएस प्रजापति ने बताया मलेरिया में व्यक्ति को ज्यादा देर तक बुखार आता है और यह बुखार प्रतिदिन तीन से चार घंटे तक रहता है। मलेरिया 10 से 12 दिन तक व्यक्ति को प्रभावित करता है। इसमें तेज बुखार के साथ ठंड लगना, उल्टी, दस्त,तेज पसीना आना तथा शरीर का तापमान 100 डिग्री सेल्सियस से ऊपर बढ़ जाना, सिरदर्द, शरीर में जलन तथा मलेरिया होने के पश्चात रोगी के शरीर में कमजोरी महसूस होना आदि मलेरिया के लक्षण हैं।

मच्छरों से करें बचाव-


1- रुके हुए पानी के स्थानों को मिट्टी से भर दें। यदि ऐसा संभव न हो तो उसमें मिट्टी का तेल, जला हुआ मोबिऑयल, डीजल डाल दें।
2- घर में कूलर, गमलों, छतों पर पड़े पुराने टायर, पशु पक्षियों के पीने का पात्र एवं निष्प्रयोज्य सामग्री तथा नारियल के खोल, प्लास्टिक की बोतल आदि में पानी एकत्रित न होने दें।
3- सोते समय मच्छरदानी अथवा मच्छर भगाने की क्रीम का प्रयोग करें।
4- जहां तक संभव हो पूरी आस्तीन की कमीज पहनें। शरीर के अधिक से अधिक हिस्से को ढककर रखें।

(हमीरपुर ब्यूरो अजय शिवहरे)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रोडवेज बस से कुचले बच्चे की मौत, सड़क पर शव ऱखकर जमकर काटा हंगामा

उत्तरप्रदेश। हमीरपुर जिले में बीते रविवार को सदर कोतवाली क्षेत्र के बस स्टैंड में कुरारा की ओर...

कोविड-19 वैक्सीन महाअभियान गढ़ीमलहरा में निकली रैली

छतरपुर ज.सं। कोरोना संक्रमण से बचाव एवं कोविड-19 संक्रमण के वैक्सीनेशन के प्रति लोगो को लोगो को...

एक संक्रमित हुआ डिस्चार्ज

छतरपुर ज.सं। छतरपुर जिले में शनिवार को 01 कोविड संक्रमित मरीज को खजुराहो कोविड केयर सेंटर से...

प्राचार्य ने टीकाकरण कराने की अपील की

छतरपुर ज.सं। शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय क्रमांक-1 छतरपुर के प्राचार्य एस.के. उपाध्याय ने छात्रों, उनके माता-पिता सहित जिले...

Recent Comments

%d bloggers like this: