Home अंतरराष्ट्रीय नेपाल के प्रधानमंत्री का संत समाज ने फूंका पुतला, जो रामजी को...

नेपाल के प्रधानमंत्री का संत समाज ने फूंका पुतला, जो रामजी को नेपाल का बता रहे,उनकी बुद्धि भ्रष्ट हो गई क्या- कम्प्यूटर बाबा

इंदौर। भगवान राम को लेकर नेपाल के प्रधानमंत्री के विवादित बयान के बाद इंदौर में संत समाज का गुस्सा फूट पड़ा। बुधवार को कम्प्यूटर बाबा की अगुवाई में संत समाज ने नेपाल के प्रधानमंत्री का पुतला फूंका।

कम्प्यूटर बाबा ने कहा कि यह सुनकर हम स्तब्ध रह गए कि नेपाल जो भारत का विरोध करते-करते भगवान राम का विरोध करने लगा। उनके प्रधानमंत्री की बुद्धि क्या भ्रष्ट हो गई है। भारत देश में भाजपा ने राम पर जमकर राजनीति की। सुप्रीम कोर्ट से भी मंदिर के हक में फैसला आया। मुझे लगता है कि चीन के बहकावे में आकर नेपाल के प्रधानमंत्री यह कह रहे हैं। पूरा संत समाज इसका विरोध करता है।


रामजी इनके यहां है ताे ये प्रमाण दें। वे हमारी आस्था से खिलवाड़ कर रहे हैं। मुझे लगता है कि प्रधानमंत्री मोदी, आडवानी को इस मामले में टिप्पणी करनी चाहिए। नेपाल अब चीन के कहने पर चल रहा है। कोरोना महामारी खत्म होने तक उन्होंने यदि ये नहीं कहा कि रामजी अयोद्धया में ही जन्में थे, तो पूरा संत समाज हजारों की तादात में इनका विरोध करते हुए सड़ पर उतरेंगे।


जब आप सीता जी का संबंध रामजी से बिगाड़ना चाहते हो तो फिर भारत-नेपाल के संबंध कैसे अच्छे रहेंगे। नेपाली जो हमारे यहां रोजी-रोटी कमाने आते हैं, उन्हें संत समाज वापस उनके देश ही भेजेगा। उन्हें कहेंगे कि पहले जाओ और अपने प्रधानमंत्री को ठीक करो। यहां से कमाकर चीन के कहने पर चलोगे यह नहीं होगा।


क्या बोले थे नेपाल के प्रधानमंत्री ओली-


नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने बयान दिया है कि भगवान राम भारतीय नहीं, नेपाली थे। उन्होंने यह भी कहा कि असली अयोध्या भारत में नहीं, नेपाल के बीरगंज में है। ओली अपने निवास पर भानु जयंती पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने भारत पर सांस्कृतिक दमन का आरोप भी लगाया। ओली ने कहा कि विज्ञान के लिए नेपाल के योगदान को हमेशा नजरंदाज किया गया। 


ओली ने कहा बीरगंज के पास थी अयोध्या-


ओली ने कहा- हमारा हमेशा से ही मानना रहा है कि हमने राजकुमार राम को सीता दी। लेकिन, हमने भगवान राम भी दिए। हमने राम अयोध्या से दिए, लेकिन भारत से नहीं। उन्होंने कहा कि अयोध्या काठमांडू से 135 किलोमीटर दूर बीरगंज का एक छोटा सा गांव थोरी था। हमारा सांस्कृतिक दमन किया गया और तथ्यों को तोड़ा-मरोड़ा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

थाना बक्सवाहा पुलिस की कार्यवाही, देशी कट्टा लिए व्यक्ति को किया गिरफ़्तार

मध्यप्रदेश। छतरपुर जिले की पुलिस ने आज दिनांक 18.10.21 को मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई कि ग्राम...

बाल आरोग्य संवर्धन कार्यक्रम के तहत कराया गया बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण

छतरपुर जसं। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह के निर्देशानुसार बाल आरोग्य संवर्धन कार्यक्रम के तहत सोमवार को परियोजना बिजावर...

कलेक्टर की अध्यक्षता में टीएल बैठक सम्पन्न, एसडीएम प्रमुखता से पटवारियों की समीक्षा करें: कलेक्टर, खनिज, ट्रांसपोर्ट, आबकारी एवं दवा विक्रेता संघ जिला अस्पताल...

छतरपुर जसं। कलेक्टर छतरपुर शीलेन्द्र सिंह ने सोमवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में टीएल प्रकरणों की साप्ताहिक समीक्षा...

22 को कैम्पस ड्राइव का आयोजन

छतरपुर जसं। आईटीआई छतरपुर में 22 अक्टूबर शुक्रवार को कैम्पस ड्राइव का आयोजन किया गया है। यह...

Recent Comments

%d bloggers like this: