Home न्यूज़ भक्त और भगवान के बीच दूरी में पिसते कर्मकांडी ब्राह्मण व पुजारी,लाॅकडाउन...

भक्त और भगवान के बीच दूरी में पिसते कर्मकांडी ब्राह्मण व पुजारी,लाॅकडाउन में कर्मकांडी ब्राह्मणों व पुजारियों की आर्थिक स्थिति दयनीय

मध्यप्रदेश। छतरपुर निवासी पंडित सौरभ तिवारी के द्वारा बताया गया कि संपूर्ण विश्व में भारत देश अपनी सनातन संस्कृति, धर्म व आध्यात्म के लिए जाना जाता है राष्ट्र के संत, पुजारी व कर्मकांडी ब्राह्मण अपनी सनातन संस्कृति को जीवित रखने के लिए सदैव ही धर्मकार्यों में रत रहते हैं ।


कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार द्वारा पूरे देश में लोग डाउन लागू किया गया है जिसकी वजह से देश के सभी मंदिरों में श्रद्धालुओं का आना-जाना बंद हैं लेकिन ऐसे समय में भी पुजारी दोनों समय मंदिर की पूजा-अर्चना कर भगवान की सेवा में लगे हुए हैं। विगत दो माह से सभी प्रकार के धार्मिक आयोजन, यज्ञ-अनुष्ठान, कथा,भागवत, जप-तप, मांगलिक कार्य व अन्य धर्मकार्य आदि बंद हैं, जिससे मंदिर के पुजारियों व कर्मकांडी ब्राह्मणों की आर्थिक स्थिति दयनीय होती जा रही है ऐसे में एक-एक दिन का गुजारा करना बड़ा मुश्किल साबित हो रहा है।

पूजा पाठ से मिली दक्षिणा से अपना घर परिवार चलाने वाले ये कर्मकांडी ब्राह्मण लॉकडाउन के समय जीवन यापन करने में आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। चैत्र नवरात्रि के समय से ही मंदिर व धार्मिक अनुष्ठान बंद है नवरात्रि में कई घरों में देवी पूजा, सप्तशती पाठ, हवन पूजन आदि होता है जो इस बार नहीं हो सका तत्पश्चात रामनवमी के त्योहार में भी पट बंद रहे उसके बाद पुण्यकर्मों के लिए शुभ माने जाने वाले वैशाख का पवित्र मास भी घर बैठे ही निकल गया अक्षय तृतीया, एकादशी, प्रदोष,अमावस्या पूर्णिमा,गंगा सप्तमी, जानकी नवमीं, बट सावित्री व्रत आदि कई त्योहार सूने सूने ही निकल गए और अभी भी ज्येष्ठ माह में भी स्थिति जस की तस बनी हुई है ।


भक्तों को भगवान के दर्शन ना होने से उनकी रोजी-रोटी पर संकट गहराने लगी है सभी बटुक ब्राह्मणों का यही दर्द है। पुजारी बताते हैं कि वैसे भी मंदिरो में आए चढावों से मुश्किल से ही घर परिवार चल पाता है। ऐसे में जो कुछ भक्तों से दान की आस थी, वो भी पूरी नहीं हुई। मंदिर तो बंद है ही साथ ही अन्य पूजा पाठ पर पाबंदी के कारण यह समस्या और अधिक गहरा गई है। कर्मकांडी ब्राह्मणों जो कि घर-घर यजमानों के यहां जाकर पूजा कर परिवार की जीविका चलाते हैं। लॉकडाउन के चलते घरों में भी पूजा पाठ के आयोजन नहीं हो रहे है। लॉकडाउन ने इन विप्रो की दक्षिणा पर भी ताला लगा दिया है अब वह भगवान भरोसे ही अपनी गुजर-बसर कर रहे हैं ।


कर्मकांड व पूजा-पाठ से जीवन यापन करने वाले इन ब्राह्मणों के लिए केंद्र सरकार व राज्य सरकार की कोई योजना नहीं है, न ही इनके पास श्रम विभाग के कागज है ना ही इनके पास मजदूरी कार्ड है, ना ही इनके बीपीएल कार्ड बने हैं और ना ही शासन की अन्य योजनाओं के माध्यम से इनको सहायता प्राप्त हो रही है। मध्यप्रदेश शासन में रजिस्टर्ड मठ मंदिरों के लिए कुछ राशि जारी हुई है जोकि ना काफी है यह राशि केवल शासन के मंदिरों को मिलेगी वो पूजा-पाठ की सामग्री के लिए भी पर्याप्त नहीं है। अब ऐसे में इन पुरोहितों के पास आमदनी का कोई चारा नहीं हैं। इनके पास खुद के मकान नहीं है यानि मकान का किराया भी देना है खाने पीने की सामग्री भी खरीदनी है एवं परिवार के भरण पोषण से संबंधित अन्य खर्चे भी चलाने हैं। सरकार हो या जनप्रतिनिधि अथवा सामाजिक धार्मिक संस्थाएं इन विप्रों को सबने बिसरा दिया है।

जो भक्त हर अवसर पर उन्हें बुलाते थे वहीं भक्त अब उनकी सुधि नहीं ले रहे हैं। ऐसे में कुछ पुरोहित तो पुरानी दक्षिणा से प्राप्त जीवन की पूंजी से काम चला रहें हैं तो कुछ को जिंदगी की जंग लड़ने कर्ज लेना पड़ रहा है क्योंकि खुद का और परिवार का पेट जो भरना है। फिर भी ये परमपिता परमात्मा पर भरोसा रखकर भगवान के भरोसे अपना जीवन चला रहे हैं और ईश्वर से यही कामना कर रहे हैं कि शीघ्र ही यह कोरोना महामारी का संकट देश और विश्व से समाप्त हो ।
शासन-प्रशासन व अन्य लोगों को इन कर्मकांडी ब्राह्मणों व पुजारियों के जीवन की रक्षा के लिए कुछ प्रयास करना चाहिए ताकि धर्म की धुरी को सम्हाले ये विप्र धर्मरक्षा के यज्ञ में सदैव अपनी आहुति देते रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

तेज रफ्तार बाइक अनियंत्रित होकर पेड़ से टकराई, बाइक सवार की मौत, ससुराल जा रहा था युवक

तेज रफ्तार बाइक अनियंत्रित होकर सड़क किनारे स्थित पेड़ से जा टकराई, जिसके चलते बाइक सवार युवक की मौके ही मौत...

लोक निर्माण विभाग में हुए भ्रष्टाचार की होगी जांच, लोक निर्माण राज्यमंत्री सुरेश धाकड़ ने दिए जांच के आदेश

लोक निर्माण राज्यमंत्री ने जांच के दिए आदेश मध्यप्रदेश। टीकमगढ़ जिले में 28 मई...

रोडवेज बस से कुचले बच्चे की मौत, सड़क पर शव ऱखकर जमकर काटा हंगामा

उत्तरप्रदेश। हमीरपुर जिले में बीते रविवार को सदर कोतवाली क्षेत्र के बस स्टैंड में कुरारा की ओर...

कोविड-19 वैक्सीन महाअभियान गढ़ीमलहरा में निकली रैली

छतरपुर ज.सं। कोरोना संक्रमण से बचाव एवं कोविड-19 संक्रमण के वैक्सीनेशन के प्रति लोगो को लोगो को...

Recent Comments

%d bloggers like this: