Home न्यूज़ आगे कुआं पीछे खाई, मजदूरों के लिए मुसीबत आई

आगे कुआं पीछे खाई, मजदूरों के लिए मुसीबत आई

छतरपुर मध्यप्रदेश। आज इन मजदूरों को वह कहावत सच हो रही है । कि आगे कुआ, पीछे खाई। बेचारे सुरक्षित होने अपने गांव घर के लिये निकले पर रास्ते में ही उनको मौत मिल जायेगी क्या पता था । कोरोना से तो शायद बच जाते। जहाँ थे, वही दिन गुजार लेते। और यदि मौत लिखी ही थी तो वहीं बीमार होकर मरते, इस तरह टुकड़े टुकड़े कटकर तड़पकर तो न मरते। यह सब क्या हो रहा है। कोई नही रोक सकता इस विनाश को मजदूरों की जिंदगी को कोई नही बचा सकता।

वह सत्ताधारी अपने अपने बंगलों में सुरक्षित बैठे है। और ज्यादा सुरक्षा के इंतजाम कर लिये गये। पर जिन्होंने उनको वोट देकर सत्ता में बिठाया की यह हमारे नेता जरूरत पड़ने पर हमारे काम आएंगे। पर क्या हो रहा है, आज सब मजदूरों की मौत का तमाशा देख रहे हैं। और घर बैठे मोबाइल या लेपटॉप से सम्बेदना के 2 शब्द लिखकर दुख व्यक्त कर देते है। क्या होता है । तुम्हारे दुख व्यक्त करने से कहते हैं,,,,,,,

का वर्षा जब कृषि सुखानी*


उनको उनके घर सुरक्षित पहुँचा देते रूखी सूखी खाकर अपने परिवार के साथ रहते । सच कहा है हमारे गुरूवर जी ने कि मोदी जी ने यह तो बहुत बड़ी गलती की है। ट्रेन बसें बंद करने से पहले 1 सप्ताह के समय मे सबको उनके गांव जाने का आदेश दिया जाता। फिर सब बंद करते तो आज इतने मजदूर मजबूर लाचार होकर ऐसे अस्त व्यस्त होकर मौत के मुँह में न जाते।


अब वही बात सामने आई कोई फायदा नही हुआ लॉकडाउन का भीड़ लगी लोग बूसे की तरह भरकर ट्रको में आ जा रहे कहते थे दूरी रखे सुरक्षित रहे । उन्होंने भी जमीनी स्तर की बात न सोचकर बड़े लोगो के हिसाब की बात की। बड़े बड़े लोग अपने पैसे से कही भी कितने दिन तक रह सकते है। बड़े मकानों में अलग अलग कमरों में सभी सदस्य रह सकते है। पर,,,


उनका नही सोचा जिनके पास कोई साधन नही है। एक कमरा भी नही झोपड़ी है । रोज मज़दूरी करते रोज खाते, वह बेचारे काम बंद होने पर वही कैसे रह सकते है। और घरों को जायेगे तो किस साधन से जब सारे रास्ते बंद साधन बंद। एक बार तो मोदी जी को उनके बारे में गहराई से सोचना था जमीन से जुड़कर सोचना था।

*पता नही मोदी जी ने कैसी चाय बेची कब बेची
सायद बड़े बड़े लोगो के बंगलों में ऑफिस में ही बेची होगी। तभी उनकी सोच ऊँची है।

श्रीमती मंजू द्विवेदी, प्रबंध संपादक शक्ति न्यूज़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रोडवेज बस से कुचले बच्चे की मौत, सड़क पर शव ऱखकर जमकर काटा हंगामा

उत्तरप्रदेश। हमीरपुर जिले में बीते रविवार को सदर कोतवाली क्षेत्र के बस स्टैंड में कुरारा की ओर...

कोविड-19 वैक्सीन महाअभियान गढ़ीमलहरा में निकली रैली

छतरपुर ज.सं। कोरोना संक्रमण से बचाव एवं कोविड-19 संक्रमण के वैक्सीनेशन के प्रति लोगो को लोगो को...

एक संक्रमित हुआ डिस्चार्ज

छतरपुर ज.सं। छतरपुर जिले में शनिवार को 01 कोविड संक्रमित मरीज को खजुराहो कोविड केयर सेंटर से...

प्राचार्य ने टीकाकरण कराने की अपील की

छतरपुर ज.सं। शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय क्रमांक-1 छतरपुर के प्राचार्य एस.के. उपाध्याय ने छात्रों, उनके माता-पिता सहित जिले...

Recent Comments

%d bloggers like this: